Thursday , March 21 2019
Home / खेल / 2-0 हारने के बाद आस्ट्रेलिया ने भारत से5-3  से जीती सीरीज!

2-0 हारने के बाद आस्ट्रेलिया ने भारत से5-3  से जीती सीरीज!

ऑस्ट्रेलिया ने भारतीय टीम को दिल्ली के फिरोज शाह कोटला मैदान पर 5वें और आखरी वनडे में 35 रनों से हरा दिया। मेहमान टीम ने पहले बैटिंग करते हुए निर्धारित 50 ओवरों में 9 विकेट पर 272 रनों का स्कोर खड़ा किया। जवाब में भारतीय टीम निरंतर अंतराल पर विकेट गंवाती रही और सभी विकेट खोकर 237 रन ही बना सकी। इस तरह उसे कप्तान विराट कोहली के होम ग्राउंड पर 35 रनों की हार के साथ ही सीरीज भी गंवानी पड़ी। सीरीज के पहले दो मुकाबले भारत ने जीते थे, जबकि ऑस्ट्रेलियाई टीम ने जबरदस्त वापसी करते हुए लगातार 3 मैच जीतते हुए सीरीज पर 3-2 से कब्जा जमा लिया।

273 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत खराब रही। उसे दिल्ली के लोकल बॉय शिखर धवन के रूप में 5वें ओवर में पहला झटका लगा। शिखर को 12 रनों के निजी स्कोर पर पैट कमिंस ने एलेक्स कैरी के हाथों कैच कराया। स्कोर 50 रन के पार पहुंचा ही था कि विराट कोहली स्टोइनिस की एक बाहर निकलती गेंद को छेड़ बैठे। गेंद सीधे विकेटकीपर कैरी के दस्ताने में जा समाई। कप्तान कोहली 22 गेंदों में 20 रन बनाकर आउट हुए। उनके और रोहित के बीच दूसरे विकेट के लिए 53 रनों की साझेदारी हुई।

कप्तान के आउट होने के बाद एक बड़ी साझेदारी की जरूरत थी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। ऋषभ पंत अच्छी शुरुआत करने के बाद 16 रन बनाकर नाथन लियोन की गेंद पर आउट हो गए तो विजय शंकर (18) को एडम जाम्पा ने उस्मान ख्वाजा के हाथों कैच आउट कराकर पविलियन भेजा। अब भारत को स्कोर 120 पर 4 विकेट हो गया। इस दौरान रोहित शर्मा ने वनडे करियर के 8000 रन पूरे किए। वह विराट कोहली (175 पारी), एबी डि विलियर्स (182 पारी) के बाद सौरभ गांगुली (200 पारी) के साथ संयुक्त रूप से तीसरे सबसे तेज 8000 वनडे रन बनाने वाले बल्लेबाज बने।

जीवनदान मिलने के बाद आउट हुए रोहित
एक छोर पर गिरते विकेट का रोहित शर्मा पर भी असर देखने को मिला। 29वें ओवर में एडम जाम्पा को बड़ी हिट लगाने के लिए वह आगे निकल आए, लेकिन बल्ला उनके हाथ से छूट गया। कैरी ने फुर्ती दिखाई और स्टंपिंग करने में देर नहीं लगाई। रोहित ने 89 गेंदों में 4 चौके की मदद से 56 रनों की पारी खेली। इस दौरान उन्हें एडम जाम्पा की गेंद पर दो बार जीवनदान भी मिला। उनका कैच विकेट के पीछे कैरी छोड़ा तो दूसरी बार मैक्सवेल ने। हालांकि वह इसका फायदा नहीं उठा सके। इसी ओवर में नए बल्लेबाज रविंद्र जडेजा (0) भी स्टपिंग हुए।

रोहित शर्मा और रविंद्र जडेजा के एक ही ओवर में आउट होने के बाद भारतीय टीम जबरदस्त दबाव में आ गई। पिच पर नए बल्लेबाज भुवनेश्वर कुमार और केदार जाधव थे। क्राउड पूरी तरह शांत था और इन दोनों ने संभलकर खेलना शुरू किया। केदार जाधव और भुवी ने जब छक्के लगाए तो एक बार फिर भारतीय फैंस को जीत की उम्मीद बंधी। 43वें ओवर में भारत के 200 रन पूरे हुए। हालांकि, भुवी 46वें ओवर की आखिरी गेंद पर पैट कमिंस को बड़ी हिट लगाने के चक्कर में फिंच के हाथों लपक लिए गए। उन्होंने शानदार बैटिंग करते हुए 54 गेंदों में 3 चौके और 2 छक्के की मदद से 46 रनों की पारी खेली। भुवी और केदार के बीच 7वें विकेट के लिए 91 रनों की साझेदारी हुई, जो भारतीय पारी की सबसे बड़ी थी।

अगले ही ओवर में केदार जाधव (44) भी चलते बने। उन्हें जे. रिचर्डसन की गेंद पर मैक्सवेल ने कैच किया। अब भारत की जीत की आस टूट चुकी थी। इसके बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम को मैच जीतने में कोई दिक्कत नहीं हुई। मेहमान टीम के लिए एडम जाम्पा ने 3 विकेट झटके, जबकि पैट कमिंस, जे. रिचर्डसन और मार्कस स्टोइनिस ने दो-दो विकेट अपने नाम किए।

इससे पहले उस्मान ख्वाजा के सीरीज में दूसरे शतक की मदद से ऑस्ट्रेलिया ने 9 विकेट पर 272 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। ख्वाजा ने 106 गेंदों पर दस चौकों और दो छक्कों की मदद से 102 रन बनाए। उन्होंने कप्तान आरोन फिंच (43 गेंदों पर 27 रन) के साथ पहले विकेट के लिए 76 और पीटर हैंड्सकांब (60 गेंदों पर 52 रन) के साथ दूसरे विकेट के लिए 99 रन की दो उपयोगी साझेदारियां की। ऑस्ट्रेलिया ने आखिरी दस ओवर में 70 रन बनाए, लेकिन इस बीच पांच विकेट भी गंवाए।

उस्मान ख्वाजा ने लगातार दूसरे मैच में शतक लगाया।

बादल छाए थे, मौसम सुहावना था और पिच सपाट थी। शायद इन परिस्थितियों को देखकर ही भारतीय टीम प्रबंधन ने पांच विशेषज्ञ गेंदबाजों के साथ उतरने का फैसला किया। ऑस्ट्रेलिया की रणनीति साफ थी। बुमराह को संभलकर खेलना और बाकी गेंदबाजों को निशाने पर रखना। मोहम्मद शमी की पहली गेंद आउटस्विंगर थी, जिसे फिंच नहीं समझ पाए, लेकिन बल्लेबाज जल्द ही सहज होकर खेलने लगे। जब 14 ओवर के बाद स्कोर बिना किसी नुकसान के 73 रन था तब पांचवें गेंदबाज के रूप में जडेजा ने गेंद संभाली और उनकी तीसरी गेंद ही फिंच के बल्ले को चूमकर विकेटों में समा गयी। ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने चारों छक्के कुलदीप पर लगाए। ख्वाजा ने इस चाइनामैन स्पिनर पर लॉन्ग ऑन पर दो गगनचुंगी छक्के जड़े।

एक ओर जहां कुलदीप खर्चीले साबित हो रहे थे तो दूसरी ओर अपने पहले चार ओवर में केवल आठ रन देने वाले बुमराह ने कसी हुई गेंदबाजी जारी रखी। बुमराह ने दबाव बनाया तो भुवनेश्वर और जडेजा ने उसे भुनाया। ख्वाजा ने 102 गेंदों पर शतक पूरा किया, लेकिन इसी स्कोर पर भुवनेश्वर की गेंद पर कवर में कैच दे बैठे। कोहली ने ही अगले ओवर में ग्लेन मैक्सवेल (एक) का एक्स्ट्रा कवर पर कैच लेकर दर्शकों में जोश भरा। शमी अपना तीसरा स्पैल करने के लिए आए। उनकी तेजी से उठती गेंद को हैंडसकॉम्ब नहीं समझ पाए, जो उनके बल्ले को चूमकर विकेट के पीछे गई और इस बार पंत ने कोई गलती नहीं की। हैंड्सकांब ने इससे पहले वनडे में अपना चौथा अर्धशतक पूरा किया।

मोहाली के नायक एश्टन टर्नर (20) ने चौके से शुरुआत की। उन्होंने कुलदीप पर मिडविकेट पर सीधा छक्का जमाया, लेकिन गेंदबाज ने जल्द ही बदला चुकता कर दिया। टर्नर ने गुगली को हवा में लहराया, जिसे जडेजा ने सीमा रेखा पर कैच कर दिया। इसके बाद भुवनेश्वर ने मार्कस स्टोइनिस (20) और शमी ने एलेक्स कैरी (20) को पविलियन भेजा। जे. रिचर्डसन (29) और पैट कमिंस (15) ने 48वें ओवर में बुमराह पर 19 रन बटोरकर उनका गेंदबाजी विश्लेषण बिगाड़ा और स्कोर 250 रन के पार पहुंचाया।

About MD MUZAMMIL

Check Also

Samjhauta Blast Case

Swami Aseemanand Acquitted Samjhauta Blast Case: समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट मामले में स्वामी असीमानंद समेत चार आरोपी बरी

हरियाणा के पंचकुला में एनआईए के स्पेशल कोर्ट ने समझौता ब्लास्ट के आरोपी स्वामी असीमानंद, …