Monday , October 15 2018
Home / देश / ‘बाहुबली’ में काम नही करना चाहते थे मनोज, सुनाई साइन की कहानी!

‘बाहुबली’ में काम नही करना चाहते थे मनोज, सुनाई साइन की कहानी!

शायर, पटकथाकार, डायलॉग राइटर और होस्ट मनोज मुंतशिर इन दिनों मजा ले रहे हैं अपनी ताजा रीलीज फिल्म ‘बाहुबली 2’ की जबरदस्त सफलता का। एस. एस. राजमौली के इस फिल्म के हिन्दी संस्करण में मनोज नें डायलॉग लिखे हैं और गानें के बोल भी उन्ही के हैं। वैसे मनोज को असली पहचान ‘एक विलेन’ की गाने ‘तेरी गलियां’ से मिली है इसके बाद ही उन्होनें ‘वजह तुम हो’, ‘बेपरवाह’ ‘करम खुदाया है’ जैसे कई हिट गानें दिए।

‘बाहुबली’ साइन करनें के किस्से को याद करचे हुए मनोज बताते हैं कि “मै एम एम करीम के साथ उन दिनों काम कर रहा था। तभी एक शख्स आते हैं और एम एम करीम से हाथ मिला कर पीछे बैठ जाते हैं। मै अपना पूरा काम करता हूं और फिर निकल जाता हूं। कुछ दिनों बाद एम एम का कॉल मेरे पास आता है और वो कहते हैं कि एस एस राजमौली तुम्हारे साथ काम करना चाहते हैं। मै उनसे पूछता हूं कि राजमौली मुझे कैसे जानते हैं तो वो कहते हैं कि हमारी मुलाकात के वक्त आनें वाले शख्स वही थे। मै राजमौली के साथ मिलनें के लिए तैयार हो जाता हूं लेकिन मन में कोई डब्ड मूवी करनें की जरा सी भी इच्छा नही थी। यही बात मै राजमौली को बताता हूं कि हिंदी इलाको में डब्ड तेलुगू फिल्मों का बुरा हाल होता है और मै अपने नाम के साथ ऐसी शुरूआत नही चाहता। तब राजमौली मुझे बेहद सब्र के साथ समझाते हैं कि ऐसा कुछ नही होनें वाला और तुम इस फिल्म को अपनें अंदाज में करो। भूल जाओ कि ये तर्जनुमा है और इसे अपनें हिसाब से लिखो। उनके इस अंदाज से मै खासा प्रभावित हुआ और फिर ये फिल्म भी की।”

फिल्म के दोनो भाग के हिंदी गानें और डायलॉग मनोज नें ही लिखे हैं। अभी उन्ही के द्वारा लिखा “हाफ गर्लफ्रैंड” का गाना “मै फिर भी तुमको चाहूंगा” टॉप पर है।

About KOD MEDIA

Check Also

असम: फर्जी एनकाउंटर मामले में मेजर जनरल समेत 7 को उम्रकैद

असम  में 1994 में 5 युवकों के फर्जी एनकाउंटर मामले में आर्मी कोर्ट ने एक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *