Sunday , February 24 2019
Home / देश / गुजरात चुनाव में साबित कर देंगे कौन ‘जबरदस्त नेता’ है और कौन ‘जबरदस्ती का नेता’: केशव प्रसाद मौर्य
PC: Kodmedia

गुजरात चुनाव में साबित कर देंगे कौन ‘जबरदस्त नेता’ है और कौन ‘जबरदस्ती का नेता’: केशव प्रसाद मौर्य

यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत पर विश्वास जताते हुए रविवार को कहा कि चुनाव रिजल्ट ये साबित कर देगा कि कौन ‘जबरदस्त नेता’ है और कौन ‘जबरदस्ती का नेता’ है.

केशव मौर्य हिमाचल प्रदेश में बीजेपी के चुनावी संभावनाओं को लेकर भी आशावादी हैं. उन्होंने कहा कि भाजपा हिमाचल प्रदेश में बहुमत से जीतेगी. उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा कि गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी एक बड़ी जीत दर्ज करने जा रही है. गुजरात में एक ही नेता है. वह हैं हमारे पीएम नरेंद्र मोदी. मैं आपको बताना चाहता हूं कि गुजरात विधानसभा चुनाव का परिणाम यह साबित करेगा कि कौन एक ‘जबरदस्त नेता’ है और कौन ‘जबरदस्ती का नेता’ है.

यूपी में निकाय चुनाव पर राज्य के उपमुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव और 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में कमल खिला था. शहरी निकाय चुनाव में एक बार फिर से कमल ही खिलेगा. उन्होंने कहा कि बीजेपी पूर्व में भी शहरी निकाय चुनाव में परचम लहराते आई है और इस बार भी यह प्रवृत्ति निरंतर जारी रहेगी. राज्य के लोग भी जानते हैं जब केंद्र, राज्य और शहरी निकायों में बीजेपी की सरकार होगी तो विकास में किसी प्रकार की कोई बाधा नहीं आ सकती है.

मौर्य ने विधानसभा सहयोगी दलों अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ बीजेपी के संबंध में तनाव की आशंकाओं को सिरे से खारिज किया. उन्होंने कहा कि शहरी निकाय चुनाव में सहयोगी दलों के साथ हमारे संबंधों में किसी प्रकार का कोई तनाव नहीं आएगा, ना ही हम ये होने देंगे. हाल में अपना दल ने शहरी निकाय चुनाव नहीं लड़ने, जबकि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने अकेले चुनाव लड़ने का निर्णय  किया था.

लोक निर्माण विभाग का प्रभार संभाल रहे मौर्य ने कहा कि यूपी सड़कों के निर्माण में नई प्रौद्योगिकी का प्रयोग कर रहा है.

उन्होंने कहा कि वर्तमान में हम जिस प्रौद्योगिकी का प्रयोग कर रहे हैं वह शायद सबसे सर्वश्रेष्ठ है. हाल में महाराष्ट्र की एक टीम ने हमारी प्रौद्योगिकी को समझने और उसे अपनाने के लिए यूपी का दौरा किया था. हम नई सड़कें बनाने के लिए पुरानी चीजों को रीसाइकल भी कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि इससे सड़कों का जीवन तकरीबन 30 फीसदी  बढ़ जाएगा जबकि लागत भी तकरीबन 30 फीसदी कम होने की उम्मीद है. सड़क निर्माण में लगने वाला वक़्त भी कम हो जाएगा. उन्होंने यह भी बताया कि नगर निगमों के तहत आने वाली सड़कों का निर्माण प्लास्टिक कचरे से ही करने की योजना है.

About RITESH KUMAR

Check Also

आदिवासियों की समस्या को उजागर करती टी-सीरीज की शार्ट फिल्म ” जीना मुश्किल है यार” विश्व फ़िल्मफेस्टिवल में  

   आदिवासियों की समस्या को उजागर करती शार्ट फिल्म ‘ जीना मुश्किल है यार’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *