Tuesday , December 11 2018
Home / देश / बीएन कॉलेज छात्रावास की जर्जर स्थिति कभी भी हो सकती है घटना: रोशन शर्मा

बीएन कॉलेज छात्रावास की जर्जर स्थिति कभी भी हो सकती है घटना: रोशन शर्मा

PATNA(BIHAR):जन अधिकार छात्र परिषद के प्रदेश महासचिव रौशन शर्मा ने बीएन कॉलेज मुख्य छात्रावास की जर्जर स्थिति पर सवाल उठाते हुए कहा कि छात्रावास में हर साल आवंटन होने के बावजूद छात्रों को किसी तरह का सुविधा मुहैया नहीं कराया जाता है ।

वहां के छात्र जर्जर स्थिति में रहकर पढ़ाई करने को विवश हैं हॉस्टल के छात्रों के लिए शौचालय बहुत बड़ी समस्या है तीन भवनों में मात्र दो ही शौचालय सही स्थिति में है हालात यह है कि छात्र सार्वजनिक शौचालयों की तरह लंबी कतार लगाकर शौच करने के लिए अपनी बारी का इंतजार करने को विवश हैं गंदगी का अंबार लगने से वह साफ सफाई तथा मच्छर विरोधी छिड़काव ना होने से कई छात्र मलेरिया टाइफाइड तथा डेंगू जैसे घातक बीमारी के शिकार हो रहे हैं ।

जिसके जर्जर हालात व बदइंतजामी का असर इस तरह देखा जा सकता है की छात्रावास आवंटन की तिथि लगातार बढ़ाने के बावजूद यहां छात्र आकर रहने व पढ़ने से परहेज कर रहे हैं अपनी व्यवस्था बनावट व खूबसूरती के लिए मशहूर यह छात्रावास रूपी विद्यामंदिर यहां पुजारी के रूप में रहने वाले विद्यार्थियों के लिए किसी दडाश्रम से कम नहीं लग रहा है यहां रहने वाले विद्यार्थियों के लिए ना स्वच्छ पानी पीने की व्यवस्था है साफ सफाई करने के लिए कर्मचारी की कमी है छात्रों के लिए एक भी कॉमन रूम नहीं हैं।

यहां के छात्र जब कॉलेज प्रशासन से अपनी समस्याओं को अवगत कराते हैं तो सिर्फ कॉलेज प्रशासन के द्वारा उन्हें आश्वासन दिया जाता है कि कॉलेज के पास छात्रावास की मरम्मत और सुविधा बहाल करने के लिए फंड आ गया है और जल्द ही उस पर काम किया जाएगा लेकिन समय बीतने के बावजूद छात्रों को किसी तरह का कोई सुविधा नहीं दिया जाता है पटना विश्वविद्यालय के सभी छात्रावासों में सबसे खराब स्थिति बीएन कॉलेज मुख्य छात्रावास की है जहां गरीब छात्र सुविधाओं के अभाव में रहने को विवश है और यहां की व्यवस्था भगवान भरोसे चल रही है यहां की वस्तु स्थिति पर कॉलेज प्रशासन विश्वविद्यालय प्रशासन या राज्य सरकार के द्वारा सवालिया निशान खड़े किए जाते रहे हैं लेकिन यहां की बुनियादी सुविधाओं पर किसी का भी ध्यान नहीं है भवन का अवस्था जर्जर होने के कारण यहां पर आए दिन किसी भी घटना घटने के भय से छात्र भयभीत रहते हैं यहां पर छात्र भयभीत माहौल में रहने को मजबूर हैंकुछ दिन पहले हॉस्टल के शालिग्राम ब्लॉक में छत नीचे गिर गया था और एक बड़ी दुर्घटना होने से बच गई थी हॉस्टल के छात्रों की हमेशा से मांग रही है कि जल्द से जल्द हॉस्टल की मरम्मत एवं सुविधाओं को बहाल किया जाए ताकि बिना भय के सुरक्षित माहौल में पढ़ाई हो सकेंl

About N.K. SINGH

Check Also

छत्तीसगढ़: एक गांव ऐसा है, जहां के इतिहास में आज तक कोई भी स्कूल नहीं गया!

एक तरफ देश भर में पूर्ण साक्षरता के लिए सरकार कानून बनाने पर विचार कर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *