Friday , November 24 2017
Home / टेक्नोलॉजी / चीन ने दूसरा सबसे भारी रॉकेट लॉन्च किया, पर हुई फेल

चीन ने दूसरा सबसे भारी रॉकेट लॉन्च किया, पर हुई फेल

नई दिल्ली: चीन ने रविवार को दक्षिणी प्रांत हैनान के वेनचांग प्रक्षेपण केंद्र से भारी उपग्रह प्रक्षेपित करने वाला अपना दूसरा रॉकेट लॉन्ग मार्च-5 प्रक्षेपित किया। हालांकि चीन के दूसरे सबसे भारी रॉकेट की लॉन्चिंग नाकाम हो गई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, शिजियान-18 उपग्रह के साथ रॉकेट ने रविवार की सुबह 7.23 बजे उड़ान भरी थी। अब विशेषज्ञ रॉकेट लॉन्चिंग की असफलता की वजहों की जांच करेंगे।

लॉन्ग मार्च-5 श्रृंखला के रॉकेटों की यह आखिरी परीक्षण उड़ान था, जिसके बाद चीन इसी वर्ष चंद्रमा पर अपने खोजी यान चेंज-5 को भेजेगी, जो चंद्रमा से नमूने लेकर लौटेगा। 7.5 टन वजनी शिजियान-18 उपग्रह चीन का अत्याधुनिक प्रायोगिक उपग्रह है और अब तक चीन द्वारा प्रक्षेपित सबसे वजनी उपग्रह भी है।

इस लॉन्च के जरिए चीन अपने उपग्रह प्लेटफॉर्म डोंगफैंगहोंग (डीएफएच-5) का परीक्षण करेगा और कक्षा के अंदर के प्रयोगों को अंजाम देगा, जिसमें क्यू/वी बैंड उपग्रह संचार, उपग्रह से जमीन पर लेजर के जरिए संचार प्रौद्योगिकी और अत्याधुनिक हल इलेक्ट्रिक प्रॉपल्सन सिस्टम का परीक्षण करेगा।

लॉन्ग मार्च-5 रॉकेट ने नवंबर, 2016 में वेनचांग से ही पहली बार उड़ान भरी थी। लॉन्ग मार्च-5 रॉकेट के पिछले संस्करण की अपेक्षा नए रॉकेट की क्षमता दोगुनी है। इसकी मदद से 25 टन तक के उपग्रहों को पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित किया जा सकता है और 14 टन तक के उपग्रहों को पृथ्वी की भूभौतिकी कक्षा में स्थापित किया जा सकता है।

इस रॉकेट में पयार्वरण को कम नुकसान पहुंचाने वाले ईंधन का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें केरोसीन, तरल हाइड्रोजन और तरल ऑक्सिजन शामिल है। लेकिन इसकी लॉन्चिंग नाकाम होने से चीन के अंतरिक्ष कार्यक्रम को बड़ा झटका लगा है।

About khabar On Demand Team

Check Also

बाल दिवस: बच्चों ने रन फाॅर चिल्ड्रेन में भाग लिया