Saturday , March 23 2019
Home / देश / ‘एलजेपी ‘असम्मानजनक’ सीट बंटवारे को नहीं मानेगी’: चिराग पासवान

‘एलजेपी ‘असम्मानजनक’ सीट बंटवारे को नहीं मानेगी’: चिराग पासवान

नई दिल्ली: बीजेपी नीत राजग में शामिल लोकजनशक्ति पार्टी (एलजेपी) ने बुधवार को कहा कि वह लोकसभा चुनाव के लिए बिहार में सीट बंटवारे पर किसी भी ‘असम्मानजनक’ समझौते को बर्दाश्त नहीं करेगी.

एलजेपी के 19वें स्थापना दिवस कार्यक्रम को यहां संबोधित करते हुए पार्टी के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि इस बार गठबंधन में जदयू के जुड़ने के कारण सबसे बड़े भागीदार के नाते बीजेपी को अपने सहयोगियों के लिए और सामंजस्य बनाना होगा.

उन्होंने कहा कि बिहार के लिए सीट बंटवारे का फार्मूला जल्द सामने आएगा और उन अटकलों को खारिज कर दिया कि 2014 की तुलना में एलजेपी को कम सीटें दी जा सकती है.

‘बीजेपी अध्यक्ष ने सम्मानजनक समझौते की बात कही थी.
चिराग ने कहा,‘बीजेपी अध्यक्ष ने सम्मानजनक समझौते की बात कही थी. मैं उतनी सीटों को स्वीकार नहीं करुंगा जो लोकजनशक्ति पार्टी के लिए किसी भी तरह असम्मानजनक हो.’ उन्होंने कहा,‘बिहार में सीट बंटवारे का फार्मूला जल्द सामने आएगा. राजग में सबसे बड़ा दल होने के नाते बीजेपी को अपने सहयोगियों के लिए और सामंजस्य करना होगा.’

बिहार में सीट बंटवारे को लेकर रालोसपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा की नाराजगी के बारे में चिराग ने कहा,‘मैं कुशवाहा के असंतोष को नहीं समझ पाता हूं. उन्होंने सीट बंटवारे की चर्चा को सार्वजनिक कर दिया यह गलत है.’ उन्होंने कहा,‘राजग में होते हुए विपक्षी नेताओं से बात कर वह दो नाव पर सवार होने का प्रयास कर रहे हैं. मुझे उम्मीद है कि वह राजग के घटक के तौर पर चुनाव लड़ेंगे.’

क्या बोले रामविलास पासवान ?
एलजेपी नेता रामविलास पासवान ने कहा कि उनके बेटे चिराग पासवान सीट बंटवारे पर वार्ता में पार्टी का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. उन्होंने कहा,‘उनके सभी फैसले एलजेपी अध्यक्ष के फैसले माने जाएंगे.’ वर्ष 1969 में विधायक बनने वाले रामविलास पासवान 2019 में राजनीति में 50 साल पूरे कर लेंगे.

पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि उन्होंने हमेशा भीमराव आंबेडकर और राममनोहर लोहिया का अनुसरण किया जो कि जाति नहीं समुदाय की बात करते थे. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मंडल आयोग लागू होने के बाद दलितों और पिछड़ों के बीच एकजुटता नहीं होने से वह निराश महसूस करते हैं.

About RITESH KUMAR

Check Also

फिल्म रिव्यू; इतिहास की सबसे बहादुरी से लड़ी गई सारागढ़ी की लड़ाई के बारे में जानने के लिए “केसरी” को मिस न करें

  अनुराग सिंह के डायरेक्शन में बनी फिल्म ‘केसरी’ में अक्षय कुमार ने एक बार …