Monday , March 25 2019
Home / मनोरंजन / फिल्म रिव्यू:देह व्यापार के मुद्दे पर अधारित ‘लव सोनिया’

फिल्म रिव्यू:देह व्यापार के मुद्दे पर अधारित ‘लव सोनिया’

 

बॉलीवुड में ऐसी बहुत ही फिल्में बन चुकी जो एक अच्छा मैसेज देती हैं। देह व्यापार पर भी बॉलीवुड में बहुत फिल्में आ चुकी हैं, और लगभग सभी फिल्मों ने दर्शकों के दिलों पर एक अलग छाप छोड़ी है। फिल्म लव सोनिया को तबरेज नूरानी ने डायरेक्ट किया है। इस फिल्म के जरिए तबरेज ने पहली बार निर्देशन में कदम रखा है। और पहली ही फिल्म से उन्होंने ये साबित कर दिया है कि उनकी गिनती बेहतरीन निर्देशकों में होने वाली है। बता दें कि ये कहानी सच्ची घटनाओं पर आधारित है, जो 7-8 साल की रिसर्च के बाद बनी है।

फिल्म में राजकुमार राव, मनोज बाजपेयी के सथ आदिल हुसैन और अनुपम खेर जैसे कलाकार भी शामिल हैं। फिल्म की कहानी महाराष्ट्र के एक ऐसे गांव से शुरू होती है, जहां बारिश न होने के कारण किसान बेहाल और कर्ज में दबे हुए हैं। ऐसा ही एक किसान (आदिल हुसैन) है, जिसकी दो बेटियां प्रीती (रिया सिसोदिया) और सोनिया (मृणाल ठाकुर) हैं। किसान शिवा दादा ठाकुर (अनुपम खेर) के कर्ज में दबा हुआ है, और इससे बचने के लिए वो अपनी बेटी का सौदा ह्यूमन ट्रैफिकिंग के जरिए कर देता है।

इस दौरान जब बहन सोनिया को प्रीती के बारे में कोई पता नहीं चल पाता और उसे ढूंढने के चक्कर में वो घर छोड़कर चली जाती है। लेकिन बहन को वापस लाने के चक्कर में वो खुद जिस्म फरोशी के दलदल में फंस जाती है। इस दौरान फिल्म में तरह-तरह के किरदारों की एंट्री होती है। बहुत सारे उतार-चढ़ाव की वजह से देह व्यापार का एक बहुत बड़ा सरगना भी नजर आता है। हर एक किरदार की अपनी पहचान है लेकिन इन सभी के बीच क्या सोनिया बहन प्रीती को ढूंढने में कामयाब हो पाएगी। ये देखने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

फिल्म की कहानी सत्य घटना पर आधारित है। लिखावट शानदार है और कहानी तो बहुत अच्छी हैं। फिल्म के संवाद काफी जबरदस्त हैं, जो कि आपको झकझोर कर रख देते हैं। फिल्म की कास्टिंग दिलचस्प है। रिया सिसोदिया की एक्टिग शानदार हैं। फिल्म की कमजोर कड़ी शायद इसका ‘ए’ सर्टिफिकेट है। जिसकी वजह से इसकी लिमिटेड ऑडियंस है।

About MD MUZAMMIL

Check Also

भाजपा ने मध्य प्रदेश में पांच मौजूदा सांसदों का काटा टिकट

भोपाल : भाजपा ने मध्य प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में से 15 सीटों पर …