Sunday , February 24 2019
Home / मनोरंजन / फिल्म रिव्यू-बहुत गर्म है सैफ अली खान की ‘बाजार’

फिल्म रिव्यू-बहुत गर्म है सैफ अली खान की ‘बाजार’

 

स्टार:5/3.5

बाजार की कहानी मुंबई के उद्योगपति शकुन कोठारी (सैफ अली खान) से शुरू होती है। जो खुद को शेयर बाजार का किंगमेकर मानता हैं। शकुन की बीवी मंदिरा कोठारी (चित्रांगदा सिंह) है। शकुन के साथ के व्यापारी उससे बहुत जलते हैं।क्योंकि शकुन का काम करने का तरीका सबसे हटकर हैं।इसी बीच इलाहाबाद शहर का लौंडा रिजवान अहमद (रोहन मेहरा ) की एंट्री मुंबई में होती है। रिजवानका एक ही सपना है, शकुन कोठारी के साथ काम करना और उसे अपना भगवान मानता हैं। इसी बीच रिजवान की मुलाकात प्रिया (राधिका आप्टे) से होती है जो कि एक ट्रेडिंग कंपनी में काम करती है।और काफी बोल्ड और सेक्सी है।क्या हैं न अब हम इससे आगे कहानी नही बतायेंगे नही तो शकुन कोठारी बुरा मान जायेगा।

फिल्म की कहानी बहुत शानदार और इसका स्क्रीनप्ले देखकर मजा आ गया फिल्म देखते-देखते अचानक सिनेमा की लाईट जलती हैं…मतलव इंटरवल हो गया..इसका मतलव हम फिल्म में इतना घुस जाते हैं..पता ही नही चला इंटरवल कब हो गया।फिल्म के संवाद भी काफी उम्दा हैं। जिसकी वजह से असीम अरोड़ा, निखिल आडवाणी ,और परवेज शेख की तारीफ तो बनती हैं।

पहली बार फिल्म का डायरेक्शन कर रहे गौरव चावला…गौरव भाई अरे आपने कमाल का डायरेक्शन किया है…मजा आ गया शेयर बाजार की रिसर्च भी काबिले तारीफ हैं। एक बात और अगर आपको शेयर मार्केट के बारे में कुछ नहीं पता तो फिल्म का टिकट खरीदिए …फिल्म का मजा भी लिजिए और शेयर बाजार का जानकारी भी लिजिए मतलव एक तीर पर दो निशाना।

अरे सैफ भईया आपने तो कमाल कर दिया कई सालों के बाद…आपकी बेहतरीन एक्टिंग देखने को मिली आपकी ही फिल्म ओमकारा याद आ गई। इसके साथ ही अपने जमाने की मशहूर अभिनेता विनोद मेहरा के बेटे रोहन मेहरा भी इस फिल्म के साथ हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में कदम जमा रहे, रोहन को देखकर देखकर बिल्कुल नहीं लगता कि यह उनकी पहली फिल्म है।कमाल कर दिया रोहन भाई आपने। राधिका आपटे अरे मैडम आपकी खूबसूरती की तरह आपके एक्टिंग पर भी भी दिन व दिन निखार आ रहा हैं…फैन हो गया। चित्रांगदा सिंह का काम भी अच्छा है हैं।  फिल्म के बाकी किरदारों ने भी ठीक-ठाक काम किया

अरे डायरेक्टर साहब क्या जरुरत थी इतनी बड़़ी फिल्म बनाने की  इंंटरवल के बाद का आपने कहानी को काफी स्लो कर दिया  फिल्म को 10-15 मिनट कम किया जा सकता था।फिल्म का गाना अच्छा हैं, जो मेरे कानों को शुकुन देती हैं।

About MD MUZAMMIL

Check Also

आदिवासियों की समस्या को उजागर करती टी-सीरीज की शार्ट फिल्म ” जीना मुश्किल है यार” विश्व फ़िल्मफेस्टिवल में  

   आदिवासियों की समस्या को उजागर करती शार्ट फिल्म ‘ जीना मुश्किल है यार’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *