Sunday , February 24 2019
Home / मजेदार / यहाँ पाइप से सप्लाई होती है बीयर, खोलो नल और पियो बीयर

यहाँ पाइप से सप्लाई होती है बीयर, खोलो नल और पियो बीयर

 

नई दिल्ली। आजकल लगभग सभी शहरों के घरों में पानी की पाइप लगी होती है जिससें रोज पानी की सप्लाई की जाती है पर यदि इसी पाइप से शराब या बीयर की सप्लाई होने लगे तो क्या होगा? खैर अभी ये भारत में संभव नहीं है क्योंकि ना तो यहाँ की कानून इसकी इजाजत देती है और ना ही पीने और पिलाने वालें ऐसा सोच रखते है।

खैर अब आते है मुख्य बातों पर, जर्मनी में एक पार्टी के आयोजकों ने बीयर लाने-ले-जाने के झंझट से बचने के लिए सीधे पाइप लाइन ही बिछा दी, जो फैक्ट्री से पार्टी की जगह तक है।

शराब सप्लाई की ये पाइपलाइन तकरीबन साढ़े 6 किलो मीटर लंबी है। ये बीयर पाइपलाइन अगस्त में होने वाले मेटल म्यूजिक फेस्टिवल को देखते हुए बिछाई जा रही है। इससे आयोजकों को ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी, क्योंकि उन्हें गिलास भरने के लिए सिर्फ नल खोलना होगा।

आयोजकों का अनुमान है कि यहां आने वाले हरेक शख्स कम से कम 5.1 लीटर बियर पीने की संभावना है और ऐसे में शराब की सप्लाई के लिए लोग कम पड़ जाएंगे। इसी बात को ध्यान में रखते हुए आयोजकों ने बीयर फैक्ट्री से कार्यक्रम स्थल तक के लिए पाइप लाइन बिछाने का विचार किया गया।  इससे पहले फेस्टिवल के लिए आयोजक टैंकरों से बीयर मंगवाने के लिए मजबूर थे। पर इस पाइप लाइन बिछने के बाद से फेस्टिवल में होनेवाली परेशानियों से काफी हद पर छुटकारा मिल जाएगा इस समस्या से पार पा ली जाएगी।


बता दें कि जर्मनी में वैकेन हार्ड रॉक नाम का एक स्पॉन्सर्ड फेस्टिवल मनाया जाता है। तीन दिन तक चलने वाले दुनिया के इस सबसे बड़े म्यूजिक फेस्टिवल में 75000 लोगों के आने की उम्मीद जताई जा रही है। वहीं,  इस 14 इंच के पाइप का कनेक्शन कई नलों से होगा, जिसमें हरेक नल से मात्र 6 सेकंड में ही 6 गिलास भरे जा सकेंगे।

मजाक में शुरू किये गए उनके इस प्लान को लोगों ने काफी पसंद किया था। अब उनका ये आइडिया पूरे जर्मनी वालों के चेहरे पर खुशी ले आया है।

About RITESH KUMAR

Check Also

आदिवासियों की समस्या को उजागर करती टी-सीरीज की शार्ट फिल्म ” जीना मुश्किल है यार” विश्व फ़िल्मफेस्टिवल में  

   आदिवासियों की समस्या को उजागर करती शार्ट फिल्म ‘ जीना मुश्किल है यार’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *