Thursday , June 21 2018
Home / देश / क्या कहें मैक्स अस्पताल है या बदमाशों का घर?

क्या कहें मैक्स अस्पताल है या बदमाशों का घर?

नई दिल्ली(आकाश रबीन्द्र शुक्ला): राजधानी दिल्ली में ऐसे तो बहुत बड़े-बड़े अस्पतालों के बारे में आपने सुना होगा, उन्ही बड़े अस्पतालों में से एक मैक्स अस्पताल भी है जो पड़पड़गंज में स्थिति है. जहाँ डाक्टरों की बदमाशी चलती है या कहें तो दादागिरी. ऐसा ही कुछ उस दिन हुआ जब शनिवार शाम सड़क से गिरने के बाद सर में तेज चोट आने से गांधीनगर के कारोबारी राजेश यहाँ अपने दोस्त के साथ इलाज के लिए आये लेकिन उन्होंने यहाँ मौजूद डॉक्टरों का व्यवहार देखा तो उनके होश उड़ गए.

राजेश के अनुसार उन्होंने इमरजेंसी में भर्ती लिया था जिसमे देखभाल के लिए डॉक्टर वरुण और मॉडल की तरह दिखने वाली डॉक्टर कीर्ति थी लेकिन वो केवल नाम के लिए देखभाल कर रहे थे.

उन्होंने बताया कि उन्हें आये हुए 2 घण्टे हो गए थे और खून भी सर से गिर रहा था लेकिन उपचार का कोई नामोनिशान नही था बल्कि डॉक्टर से अनुरोध करने पर वो इनपर गुस्सा दिखाते रहे और बाहर निकाल देने की बात करते रहे.

हमारी टीम के अनुसार वहां के अधिकतर लोग डॉक्टर वरुण और कीर्ति के व्यवहार को गलत बताते हैं. कुछ लोगों का कहना है कि डाक्टरों का व्यवहार उन्हें अच्छा नही लगता वो इतना ज्यादा पैसा देकर आते हैं अच्छे इलाज के लिए, लेकिन यहाँ उनके उम्मीदों के विपरीत काम मिलता है.

आपने सरकार के विज्ञापनों में तो सुना ही होगा कि अगर कोई व्यक्ति किसी घायल को अस्पताल लेकर आता है तो अस्पताल बिना सवाल जबाब किये उसका पहले इलाज करेगा, लेकिन यहाँ पहले सवाल जबाब होता है और उपचार तो 2 घण्टे बाद किया जाता है.

About आकाश रबीन्द्र शुक्ला

Producer at Zee Media and Young journalist at www.khabarondemand.com

Check Also

गोंडा: 15 किलो गांजा के साथ तस्कर चढ़ा पुलिस के हत्थे, एक फरार होने में रहा कामयाब

 गोंडा (अरूण त्रिपाठी): जनपद कीकोतवाली देहात पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस …