Saturday , December 15 2018
Home / देश / डेरा कांड में 33 की मौत, चौतरफा हमलों के बीच ‘खट्टर’ की कुर्सी सेफ
‪Panchkula‬ voilence dera followers, gurmit ram rahim, maohar lal khattar, bjp, congress, mayawati, high court, cbi, high alert, army in hariyana, गुरमीत सिंह, बीजेपी, कांग्रेस, मायावती, मनोहर लाल खट्टर, डेरा समर्थक, आगजनी, सीबीआई की विशेष अदालत, 28 अगस्त
डेरा सर्मथकों का हिंसक प्रदर्शन

डेरा कांड में 33 की मौत, चौतरफा हमलों के बीच ‘खट्टर’ की कुर्सी सेफ

शुक्रवार को गुरमीत सिंह पर फैसले के बाद हरियाणा समेत देश के 6 राज्यों में हालात तनावपूर्ण है । अभी तक हुई हिंसा में 33 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 250 से ज्यादा लोग घायल हैं । हालांकि मरने वालों में से सिर्फ एक की ही शिनाख्त हो पाई है। दिल्ली- एनसीआर, हरियाणा, उत्तराखंड समेत 6 राज्यों में धारा 144 लगा दी गई है ।

‘गुरमीत सिंह की संपत्ति जब्त हो’

हाईकोर्ट ने आदेश दिया है कि गुरमीत सिंह की सारी संपत्ति जब्त की जाए । सरकार उनके समर्थकों पर भी कार्रवाई करे। सरकार ने हालांकि 1 हजार से ज्यादा डेरा सर्मथकों को गिरफ्तार किया है। वहीं प्रशासनिक कार्रवाई के तहत पंचकूला के डिप्टी कमिश्नर को भी सस्पेंड कर दिया गया है।

डेरा कांड पर सियासत तेज

वहीं इस मसले पर हरियाणा सरकार पूरी तरह घिर चुकी है। कांग्रेस समेत कई राजनीतिक पार्टियों में हिंसा को खट्टर सरकार की नाकामी बताया है। कांग्रेस ने सीएम मनोहर लाल खट्टर के इस्तीफे की मांग की है। उनका कहना है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जाए। वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी खट्टर को सहारा बनाकर बीजेपी को घेरा है। मायावती ने प्रेस नोट जारी करते हुए कहा है कि हरियाणा में हुई हिंसा बीजेपी की वोट बैंक वाली राजनीति का नतीजा है । मायावती ने इस हिंसा की तुलना 1992 में हुए बाबरी मस्जिद विध्वंस कांड से की है।

खट्टर की कुर्सी सेफ

सबसे चौंकाने वाली बात ये है कि गुरमीत सिंह के समर्थन में दो बीजेपी के नेता आएं हैं । बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने गुरमीत सिंह को निर्दोष करार दिया है। वहीं मध्यप्रदेश बीजेपी के जाने माने नेता कैलाश विजयवर्गीय ने भी गुरमीत सिंह का बचाव किया है। वहीं इन सबके बीच ऐसा कहा जा रहा था कि पूरे मामले पर बीजेपी खट्टर का इस्तीफा ले सकती है। लेकिन इन खबरों पर बीजेपी के सूत्रों ने विराम लगा दिया। अब ऐसा कहा जा रहा है कि खट्टर की कुर्सी सेफ है। इस मसले पर इन खबरों से पहले अमित शाह ने पीएम मोदी के साथ बैठक भी की।

28 अगस्त को सजा का ऐलान

हालांकि सबसे खास 28 अगस्त का दिन होगा। सोमवार 28 अगस्त को रोहतक जेल में ही इस केस की सुनवाई होगी। और गुरमीत सिंह को कितने साल की सजा होगी। इसका ऐलान किया जाएगा। ऐसा माना जा रहा है कि गुरमीत सिंह को कम से कम 7 साल की जेल हो सकती है। वैसे आजीवान कारावास भी उसे मिल सकता है। गौरतलब है कि शुक्रवार को गुरमीत सिंह पर फैसला आने के बाद पंचकूला में डेरा सर्मथकों ने खूब हंगामा किया। आगजनी की। तीन चैनलों की ओबी वैन सर्मथकों ने फूंक दी। कई अन्य गाड़ियों को भी आग के हवाले कर दिया गया।

इससे पहले डेरा सर्मथकों ने पंचकूला में आना शुरु कर दिया था। धीरे-धीरे करके वो लाव-लश्कर के साथ वहां पहुंच रहे थे। प्रशासन ने उन्हें आने दिया। किसी भी तरह की रोक डेरा समर्थकों पर लागू नहीं हुई। 24 अगस्त को धारा 144 एक्टिव हुई। उस दिन रात में पुलिस थोड़ी मुस्तैद दिखाई दी। बता दें कि गुरमीत सिंह को साध्वी यौन शोषण मामले में धारा 506, धारा 376 के तहत दोषी पाया गया  है। उस पर रेप करने और दबाव डालने का आरोप है।

About KOD MEDIA

Check Also

क्या “उरी” में सर्जिकल हमले से जुड़े अनकहे और अनसुने राज़ से उठेगा पर्दा?

आर.एस.वी.पी की आगामी फ़िल्म “उरी” ने अपनी प्रत्येक घोषणा के साथ फ़िल्म के प्रति दर्शकों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *