Thursday , November 23 2017
Home / देश / … तो इसलिए शीला को लाकर यूपी में ब्राह्मण कार्ड खेल रही है कांग्रेस!

… तो इसलिए शीला को लाकर यूपी में ब्राह्मण कार्ड खेल रही है कांग्रेस!

गाजियाबाद से शैलेश कुमार शुक्लाउत्त्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 के लिए बिगुल कभी भी बज सकती है। ऐसे में खबर ऑन डिमांड की टीम आपके पास सीट-दर-सीट का हाल पहुंचा रही है। इसी कड़ी में खबर ऑन डिमांड की टीम ने उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी विधानसभा सीट साहिबाबाद का रुख कर कांग्रेस के संभावित उम्मीदवार शशि भूषण शर्मा से मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान शशि भूषण शर्मा के साथ उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की चुनावी रणनीतियों पर भी चर्चा की। शशि भूषण शर्मा प्रदेश कार्यकारिणी के प्रचार और प्रकाशन विभाग में उपाध्यक्ष पद पर भी हैं।

KhabarOnDemand.com : केंद्र सरकार की नोटबंदी स्कीम के बाद से यूपी में चुनाव प्रचार में बेहद कमी आई है। क्या ये नोटबंदी का असर है या कुछ और?

शशि भूषण शर्मा: नोटबंदी से आम लोगों की कमर जरुर टूट गई है। मोदी सरकार ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, आम जनता परेशान है। पार्टियों के चुनाव प्रचार पर असर पड़ा हो या न पड़ा हो। पर आम लोग काफी गुस्से में हैं। यही वजह है कि इस चुनाव में बीजेपी मुंह की खाएगी।

KhabarOnDemand.com : साल 2017 के दंगल के लिए चुनाव प्रचार में कांग्रेस को आप कहां पा रहे हैं? प्रचार के लिए कांग्रेस पार्टी की क्या रणनीति है? क्या राहुल गांधी की किसान सभाओं से लोग पार्टी से जुड़ रहे हैं?

शशि भूषण शर्मा: राहुल गांधी इस चुनाव में कांग्रेस के लिए काफी मेहनत कर रहे हैं। उन्होंने 3500किमी लंबी किसान यात्रा निकाली। इस दौरान राहुल जी ने किसानों. गरीबों और आम लोगों से मुलाकात की। कांग्रेस पार्टी किसानों पर खास ध्यान दे रही हैं। कांग्रेस चाहती है कि किसानों का कर्ज माफ़ हो, बिलजी बिल हाफ हो और फसलों का उचित मूल्य मिले। मौजूदा हालत में किसान बदहाल है। होलसेल में किसानों को अनाज-सब्जियों के उचित मूल्य तक नहीं मिल रही है। नोटबंदी ने तो उनकी कमर तोड़कर रख दी है।

KhabarOnDemand.com : अगर सरकार राहुल जी की अगुवाई में सौंपे गए 2 करोड़ से अधिक किसान मांगपत्रों पर विचार करती है और किसानों का कर्ज माफ करती है। तो क्या किसान भारतीय जनता पार्टी की ओर नहीं जाएंगे?

शशि भूषण शर्मा: बिल्कुल नहीं। क्योंकि किसान जानता है कि अगर मोदीजी ये फैसले लेंगे, तो उनके दबाव में लेंगे। अगर उन्हें किसानों का भला करना ही होता, तो वो कर्ज पहले ही माफ कर देते। नोटबंदी कर उन्होंने तो बाकायदा किसानों को तबाह कर दिया है। अब आम लोगों के साथ ही किसानों-मजदूरों की भी समझ में आ गया है कि भारतीय जनता पार्टी का मतलब सिर्फ छलावा है।

KhabarOnDemand.com : साहिबाबाद सीट की बात करें तो यहां ब्राह्मणों का वोट निर्णायक है। कांग्रेस की ओर से अगर आपको उम्मीदवार बनाया जाता है, साथ ही मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर भी शीला दीक्षित का नाम है ही, ऐसे में क्या साहिबाबाद के लोगों पर कांग्रेस का ब्राह्मण कार्ड काम कर जाएगा?

 शशि भूषण शर्मा: प्रदेश के लोग 27 सालों से कांग्रेस के इतर सभी पार्टियों को आजमा चुके हैं। सभी पार्टियों ने प्रदेश को बर्बाद किया है। यूपी में पिछले 27 सालों से कोई ब्राह्मण मुख्यमंत्री पद तक नहीं पहुंचा, ऐसे में हमें शीला दीक्षित के आने से जबरदस्त फायदा मिलने वाला है। हमारे यहां 25फीसदी मतदाता ब्राह्मण वर्ग से हैं। अगर वो एकजुट हो गए, तो काग्रेस को जीतने से कोई नहीं रोक सकता। फिर कांग्रेस शीला दीक्षित को लाई ही है, उत्तर प्रदेश का विकास करने के लिए। वो अतीत में दिल्ली को दुनिया के विकसित शहरों में शामिल कराकर अपनी नेतृत्व क्षमता का परिचय दे चुकी हैं। प्रदेश के मतदाता भी चाहते हैं कि उनके प्रदेश का चहुंमुखी विकास हो। एक वजह ये भी है हमें प्रदेश में मिल रहे व्यापक जन-समर्थन की।

About khabar On Demand Team

Check Also

भूखे रहने वाले युवा हो रहे है मधुमेह का शिकार