Friday , February 22 2019
Home / देश / अंडमान के हैवलॉक द्वीप पर भारी बारिश के कारण सैकड़ो टूरिस्ट फंसे, बचाव में जुटी नौसेना

अंडमान के हैवलॉक द्वीप पर भारी बारिश के कारण सैकड़ो टूरिस्ट फंसे, बचाव में जुटी नौसेना

नई दिल्‍ली । अंडमान-निकोबार के हैवलॉक द्वीप पर भारी बारिश और तूफान की वजह से फंसे 1400 पर्यटक फंस गए हैं। भारतीय नौसेना इन सभी को बचाने के लिए अभियान चलाया है, नौसेना ने इन पर्यटकों को बचाने के लिए अपने तीन जहाज रवाना किए हैं।

रातभर हुई बारिश ने द्वीप में जनजीवन को प्रभावित कर दिया है और अंडमान के उत्तरी और मध्य हिस्से में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। इन पर्यटकों को बचाने के लिए भारतीय नौसेना ने रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन शुरू किया है। स्‍थानीय प्रशासन ने नेवी से बचाव अभियान के लिए मदद मांगी और देर रात से ही नेवी रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन में जुट गई है। नेवी ने कहा है कि चार जहाज रेस्‍क्‍यू के लिए यहां पहुंच चुके हैं। फंसे पर्यटकों को हैवलॉक से अंडमान लाने की कोशिश जल्‍द शुरू की जाएगी। नेवी ने कहा कि हैवलॉक द्वीप में इस समय 800 पर्यटक फंसे हैं। भारी बारिश के चलते मौसम बहुत खराब है।

दरअसल, बंगाल की खाड़ी में साइक्लोन के कारण अंडमान में भारी बारिश हो रही है। इस कारण पर्यटकों को काफी दिक्कतें आ रही हैं। बारिश को लेकर मौसम विभाग ने पहले ही चेतावनी जारी की थी। हालात की गंभीरता को समझते हुए भारतीय नेवी ने चार जहाज को टूरिस्टों को वहां से निकालने के लिए भेजा है। टूरिस्ट अंडमान के हेवलॉक द्वीप में फंसे हैं। बताया जा रहा है कि पर्यटकों को हैवलॉक से सुरक्षित निकालकर पोर्टब्लेयर ले जाया जाएगा। बारिश के चलते उड़ानें भी प्रभावित हुई है। अंडमान निकोबार द्वीपसमूह में अगले 48 घंटे भारी बारिश की संभावना बनी हुई है।

अधिकारियों ने फंसे हुए पर्यटकों की संख्या 800 बताई है जबकि टूर संचालकों का कहना है कि 1400 से ज्यादा सैलानी फंसे हैं। कई इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट संपर्क भी टूट गया है। रक्षा सीपीआरओ एसएस बिरडी ने कहा कि हेवलॉक द्वीप में 800 से ज्यादा पर्यटक फंस गए हैं। फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए भारतीय नौसेना के पोत बित्रा, बंगारम, कुंभीर एलसीयू 38 को तैनात किया गया है। निकालने का काम प्रतिकूल स्थितियों की वजह से अभी शुरू नहीं किया जा सका है।
नौसेना के एक अधिकारी ने बताया कि अंडमान निकोबार आपदा प्रबंधन के अनुरोध पर फंसे लोगों को निकालने का मिशन अचानक से शुरू किया गया। विभाग ने अनुमान लगाया है कि चक्रवाती तूफान हेवलॉक द्वीप पर आ सकता है। यह द्वीप राज्य की राजधानी पोर्ट ब्लेयर से करीब 40 किलोमीटर दूर है। अधिकारी ने कहा कि पोत बंदरगाह के बाहर इंतजार कर रहे हैं। पर्याप्त खाना, पानी, दवाएं और डॉक्टरों के साथ ही गोताखोरों और स्थानीय प्रशासन के कर्मचारियों को पोत पर लाया जा रहा है ताकि राहत मुहैया कराई जा सके। पोत पोर्ट ब्लेयर से सुबह सवा तीन बजे रवाना हुए और यह फंसे हुए सैलानियों को वापस पोर्ट ब्लेयर लाएंगे।

About RITESH KUMAR

Check Also

तूफानी दौरा, ग्रामीणों की समस्याओं को सुने

विकाश कुमार (बिसनुटीकर)  लोकप्रिय विधायक राजकुमार यादव ने तिसरी के कर्णपुरा, कानिचिहार,गोलगो, मनसाडीह,दुलियाकरम,दानोखुट्टा,जमामोसहित कई गांवों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *