Saturday , July 22 2017
Home / खबरें अभी अभी / ओडिशा: पुरी रथयात्रा कल से शुरू, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

ओडिशा: पुरी रथयात्रा कल से शुरू, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

नई दिल्ली: आषाढ़ माह के शुक्लपक्ष की द्वितीया तिथि को ओडिशा के पुरी नगर में होने वाली भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा सिर्फ भारत ही नहीं विश्व के सबसे विशाल और महत्वपूर्ण धार्मिक उत्सवों में से एक है, जिसमें भाग लेने के लिए पूरी दुनिया से लाखों श्रद्धालु और पर्यटक आते हैं।

भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा रविवार यानि 25 जून से शुरु होने जा रही है। जिसमें भगवान जगन्ननाथ,भाई बलराम और बहन सुभद्रा के साथ रथों पर सवार होकर अपनी मौसी के यहां यानि गुण्डीचा मंदिर जाएंगें। इस मौके पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचने की संभावना है जिसके चलते प्रशासन की ओर से सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

 

आइए, जानते हैं भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा से जुड़ी ये खास और रोचक बातें:

पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर भारत के चार पवित्र धामों में से एक है। वर्त्तमान मंदिर 800 वर्ष से अधिक प्राचीन है, जिसमें भगवान श्रीकृष्ण, जगन्नाथ रूप में विराजित है। साथ ही यहां उनके बड़े भाई बलराम (बलभद्र या बलदेव) और उनकी बहन देवी सुभद्रा की पूजा की जाती है।

पुरी रथयात्रा के लिए बलराम, श्रीकृष्ण और देवी सुभद्रा के लिए तीन अलग-अलग रथ निर्मित किए जाते हैं। रथयात्रा में सबसे आगे बलरामजी का रथ, उसके बाद बीच में देवी सुभद्रा का रथ और सबसे पीछे भगवान जगन्नाथ श्रीकृष्ण का रथ होता है। इसे उनके रंग और ऊंचाई से पहचाना जाता है।

बलरामजी के रथ को ‘तालध्वज’ कहते हैं, जिसका रंग लाल और हरा होता है। देवी सुभद्रा के रथ को ‘दर्पदलन’ या ‘पद्म रथ’ कहा जाता है, जो काले या नीले और लाल रंग का होता है, जबकि भगवान जगन्नाथ के रथ को ‘ नंदीघोष’ या ‘गरुड़ध्वज’ कहते हैं। इसका रंग लाल और पीला होता है।

भगवान जगन्नाथ का नंदीघोष रथ 45.6 फीट ऊंचा, बलरामजी का तालध्वज रथ 45 फीट ऊंचा और देवी सुभद्रा का दर्पदलन रथ 44.6 फीट ऊंचा होता है।

About RITESH KUMAR

Senior Correspondent at khabarondemand.com. Love to follow Politics, Sports and Culture.

Check Also

शाहरुख खान ने प्रीतम दा को गिफ्ट किया गिटार!

नई दिल्ली: बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान ने संगीतकार प्रीतम चक्रवर्ती को गिटार भेंट किया और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *