Sunday , February 25 2018
Home / देश / जम्मू एवं कश्मीर उच्च न्यायालय ने अलगाववादी नेता मसरत आलम को रिहा करने का आदेश दिया, पढें कौन है

जम्मू एवं कश्मीर उच्च न्यायालय ने अलगाववादी नेता मसरत आलम को रिहा करने का आदेश दिया, पढें कौन है

श्रीनगर । जम्मू एवं कश्मीर उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अलगाववादी नेता मसरत आलम को रिहा करने का आदेश दिया। राज्य में लोक सुरक्षा के लिए खतरा होने और संकट पैदा करने के आरोपों में आलम छह साल से जेल में है। वर्ष 2010 में कश्मीर घाटी में उत्पात के बाद आलम को जन सुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत गिरफ्तार किया गया था। वह अभी जम्मू के पास कठुआ जेल में है। उस उपद्रव में 100 से अधिक लोगों की मौत हुई थी।

आलम पर आरोप है कि उसके द्वारा भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान के साथ लगी सीमा (नियंत्रण रेख(( पर तीन नागरिकों के कथित फर्जी मुठभेड़ में मारे जाने के बाद भारत विरोधी हिंसक प्रदर्शन का आयोजन किया था। न्यायाधीश मुजफ्फर हुसैन अतर ने आलम के पीएसए हिरासत आदेश को मंगलवार को खारिज कर दिया। अदालत ने पिछले सप्ताह सुनवाई के दौरान फैसला सुरक्षित रखा था। फैसले के दौरान कहा गया कि आलम को अविलंब रिहा किया जाए।

 कौन है मसरत

मसरत आलम को अलगाववादी हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी का बेहद करीबी माना जाता है। मसरत 2008-10 में राष्ट्रविरोधी प्रदर्शनों को लीड करता रहा है। उस दौरान पत्थरबाजी की घटनाओं में 112 लोगों की मौत हो गई थी। मसरत के खिलाफ देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने सहित कई मामले दर्ज थे। उसे चार महीनों की तलाश के बाद अक्टूबर 2010 में दबोचा गया था। मसरत पर संवेदनशील इलाकों में भड़काऊ भाषण देने के आरोप भी लग चुके हैं।

गुलाब बाग इलाके से किया गया था गिरफ्तार

मसरत आलम को अक्टूबर 2010 में श्रीनगर के गुलाब बाग इलाके से 4 महीने की मशक्कत के बाद गिरफ्तार किया गया था। गिलानी के करीबी माने जाने वाले मसरत आलम पर दस लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था। मसरत 2010 से पब्लिक सेफ्टी एक्ट यानी पीएसए के तहत जेल में कैद था।

About Jyoti Yadav

Check Also

Jharkhand, Hazaribagh, SDO, Cigarette, Campaign

हजारीबाग: तंबाकु, सिगरेट के खिलाफ चला अभियान, 93 हजार का वसूला जुर्माना