Sunday , February 24 2019
Home / मनोरंजन / जबरिया जोड़ी” में एक शादी सीक्वेंस के लिए सिद्धार्थ और परिणीति ने एक ‘तबेले’ में बिताए 13 घंटे!

जबरिया जोड़ी” में एक शादी सीक्वेंस के लिए सिद्धार्थ और परिणीति ने एक ‘तबेले’ में बिताए 13 घंटे!

सिद्धार्थ मल्होत्रा और परिणीति चोपड़ा फ़िल्म “हँसी तो फसी” की रिलीज के चार बाद ‘जबरिया जोड़ी’ में एक साथ नज़र आने वाले है। दोनों इन दिनों लखनऊ शहर में फ़िल्म की शूटिंग कर रहे है।

एकता कपूर की आगामी फिल्म ‘जबरिया जोड़ी’ में एक ‘अतरंगी शादी’ को अंजाम दिया गया है जिसके लिए फ़िल्म की मुख्य जोड़ी को गायों के बीच एक असली ‘तबेले’ में 13 घंटे से अधिक समय का समय बिताना पड़ा था।

चूंकि इस फ़िल्म में दर्शकों को कई शादी सीक्वेंस देखने मिलेंगे लेकिन फ़िल्म के निर्माताओं के लिए तबेले में रचाई गयी यह शादी सबसे काफी दिलचस्प और मज़ेदार थी।

जबरिया जोड़ी में बिहार में होने वाले पकड़वा विवाह (शादी के लिए दूल्हे का जबरन अपहरण करना) पर एक दिलचस्प कहानी प्रस्तुत की जाएगी।

फ़िल्म से जुड़े सूत्रों की माने तो,”फ़िल्म के निर्माताओं ने हर बारीकी पर ध्यान देते हुए तबेले के भीतर शादी की शानदार साज-सजावट का इंतज़ाम किया था। अगर कोई भी बार-बार तबेले की भीतर और बाहर आना-जाना करता था तो सजावट ऊपर नीचे होने का डर लगा रहता था और इसिलए परी और सिद्धार्थ ने निर्णय लिया कि वह लोकेशन से बाहर नहीं जाएंगे। यहाँ तक कि उनके लिए तबेले की भीतर हर चीज़ का इंतज़ाम किया गया था। दोनों ने अपने ब्रेक का समय भी घटा दिया था ताकि समय से इस सीन को पूरा किया जा सके।”

जबरिया जोड़ी की शूटिंग पिछले महीने से शुरू हो चुकी है और इन दिनों फ़िल्म को लखनऊ शहर और उसके आसपास के क्षेत्रों में फ़िल्माया जा रहा है।

परिनीती चोपड़ा के दोस्त के रूप में अपारशक्ति खुराना, उनके पिता के रूप में संजय मिश्रा, पिता के दोस्त के रूप में नीरज सूद, इंस्पेक्टर के रूप में गोपाल दत्त, सिद्धार्थ मल्होत्रा के पिता की भूमिका में जावेद जाफरी और उनके दोस्त के रूप में चंदन रॉय सान्याल, ‘जबरिया जोड़ी’ में फ़िल्म की मुख्य जोड़ी के अलावा सभी कलाकार दिलचस्प प्रदर्शन करते हुए नज़र आएंगे।

बालाजी मोशन पिक्चर्स और शैलेश सिंह की कर्मा मीडिया नेट के बैनर तले बनी यह फ़िल्म एकता कपूर द्वारा निर्मित है। प्रशांत सिंह द्वारा निर्देशित ‘जबरिया जोड़ी’ अगले साल रिलीज होगी।

About MD MUZAMMIL

Check Also

आदिवासियों की समस्या को उजागर करती टी-सीरीज की शार्ट फिल्म ” जीना मुश्किल है यार” विश्व फ़िल्मफेस्टिवल में  

   आदिवासियों की समस्या को उजागर करती शार्ट फिल्म ‘ जीना मुश्किल है यार’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *