Wednesday , December 19 2018
Home / देश / VIDEO : बिहार में तेज आंधी और ओलावृष्टि से 10 की मौत, 12 घायल

VIDEO : बिहार में तेज आंधी और ओलावृष्टि से 10 की मौत, 12 घायल

बिहार में उत्तर से लेकर पूरब के कई जिलों में आंधी-तूफान के साथ बारिश और ओलावृष्टि से आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया. पूर्व बिहार में कई जगहों पर कई-कई घंटे बिजली आपूर्ति ठप रही. खबर है कि इस बारिश में करीब 10 लोगों की मौत हो गयी है और करीब एक दर्जन लोग घायल हो गये हैं. इसके साथ ही प्रशासन की ओर से भारी बारिश और तेज आंधी के बीच पटना, गया, मोतीहारी, पूर्वी अौर पश्चिमी चंपारण छपरा और वैशाली समेत कई जिलों में एलर्ट जारी कर दिया गया है.

शुक्रवार को भारी बारिश के बीच गोपालगंज में चार, भोरे में तीन, बगहा में एक, मोतीहारी में एक और कुचायकोट में एक आदमी की मौत हो गयी है. ग्रामीण इलाकों में आंधी-तूफान से कई घरों के छप्पर उड़ गये. दलहन फसलों की व्यापक क्षति हुई है. खेत में लगे चिकना, खेसारी, रैंचा को थोड़ा बहुत नुकसान भी हुआ. आम-लीची के मंजर और टिकोलों पर भी इसका प्रतिकूल असर पड़ा है. तेज तूफान के चलते मक्के की फसल खेत में सो गये.

आंधी और ओलावृष्टि से करीब दो लाख से अधिक किसानों के प्रभावित होने की बात सामने आयी है. किसानों ने बताया कि आंधी और ओलावृष्टि के कारण जहां किसानों के घर का छप्पड़, पुआल, भूसी आदि उड़ गये. वहीं, जेठुवा, आम, कटहल, महुआ आदि फल पूरी तरह बर्बाद हो गया. प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि किसानों की क्षति का आकलन किया जायेगा तथा इसकी रिपोर्ट जिला भेजी जायेगी.

 

वहीं, उत्तर बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के मैनाटांड और सिकटा प्रखंड में शुक्रवार को जोरदार बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई. इससे एक तरफ जहां गर्मी से राहत मिली, वहीं दूसरी तरफ फसलों को खासकर आम और लीची को नुकसान झेलना पड़ा. यहां बता दें कि दो दिन पूर्व ही मौसम विभाग ने पूर्वानुमान जारी किया था, जिसका असर शुक्रवार को देखने को मिला.

मैनाटांड प्रतिनिधि के अनुसार, प्रखंड क्षेत्र में शुक्रवार को आयी तेज हवा से जहां गेहूं के पौधे धराशायी हो गये, वहीं बिजली व्यवस्था भी चौपट हो गयी. ओलावृष्टि से आम और गेहूं की फसल को काफी नुकसान हुआ. इस बार मौसम की मार किसानों और बागवानों पर पड़ रही है. पिछले एक सप्ताह से क्षेत्र में बह रही पुरवाई हवाओं ने उमस पैदा कर रखी थी. गुरुवार की आधी रात के बाद मौसम ने पलटी मारी और आसमान में गरज के साथ बादल छा गये. तड़के करीब आठ बजे तेज हावा के साथ ओलावृष्टि व बारिश शुरू हो गयी. इसने सबसे ज्यादा नुकसान आम और लीची के बागानों को पहुंचाया. आम के छोटे-छोटे फल हवा के थपेड़ों से जमीन पर आ गिरे. साथ ही ईंट भट्टा संचालकों को भी कच्चे ईंट गल जाने से काफी नुकसान हुआ है.

मधुबनी जिला मुख्यालय सहित विभिन भागों में शुक्रवार को करीब 15 मिनट तक जमकर बारिश हुई. जानकारी के अनुसार, अरेर, बेनीपट्टी हरलाखी सहित अन्य भागों में बारिश के साथ-साथ ओला भी गिरा, जिससे किसानों के कई फसलों को भारी नुकसान हुआ है. हालांकि, जिस जगह पर ओला नहीं गिरा है, उस जगह पर आम, सब्जी के फसल को फायदा होने की बात बतायी जा रही है.

सुपौल जिले में शुक्रवार को मौसम का मिजाज सुबह से ही अचानक बदला-बदला नजर आया. आसमान में घने बादल छा गये, कहीं-कहीं हल्की बारिश भी हुई. तापमान में गिरावट भी दर्ज की गयी. हालांकि, दिन के 12 बजे तक फिर धूप निकल आयी. तेज आंधी, बारिश और ओलावृष्टि का असर सीतामढ़ी और मोतिहारी के चिरैया के अकौना, खोढा, महुआवा, लालबेगिया सहित अन्य गांवों में भी देखने को मिला.

About Web Team

Check Also

जीरो” में दिखेगी शाहरुख खान और जीशान अयूब की दिल छू लेने वाली दोस्ती

आनंद एल राय के निर्देशन में बनी फिल्म ‘जीरो’ में शाहरुख खान और जीशान अयूब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *