Sunday , February 24 2019
Home / देश / लवकुश रामलीला : अंगद-रावण संवाद एवं लक्ष्मण-मेघनाद युद्ध ने दर्शकों को किया रोमांचित

लवकुश रामलीला : अंगद-रावण संवाद एवं लक्ष्मण-मेघनाद युद्ध ने दर्शकों को किया रोमांचित

   विश्व प्रसिद्ध लवकुश कमिटी की रामलीला अपने चरम पर पहुंच गई है। रोज हहजारों की संख्या में ररामलीला देखने के लिए दर्शक पहुंच रहे हैं, तो मीडिया का भी भारी मौजूदगी इसके स्तर को बयां करने के लिए काफी है। रामलीला के छइे दिन हनुमान जी द्वारा ’लंका दहन’ की लीला देखने के बाद सातवें दिन रामलीला के कलाकारों ने कहानी को आगे बढ़ाया और राजा रावण के लंका से सीता जी को सकुशल बचाने के लिए कोई कसर बाकी नहीं रखा। इसके साथ ही अंगद-रावण संवाद, लक्ष्मण-मेघनाद युद्ध आदि दृश्यों ने भी दर्शकों को खूब रोमांचित किया।

सातवें दिन की लीला में अंगद के किरदार में भाजपा सांसद एवं दिल्ली प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी, तो रावण के किरदार में पुनीत इस्सर ने अपने प्रदर्शन से मीडिया के हुजूम के साथ भारी जनसैलाब को मंत्रमुग्ध कर दिया। ऊपर से हाई-टेक साउंड इफेक्ट और ग्राफिक्स तो मानो केक पर चेरी जैसा साबित हुआ। इनके अलावा रामलीला के सातवें दिन बॉलीवुड के साथ-साथ राजनीति से जुड़े नामी लोगों ने भी अपने हुनर का प्रदर्शन किया। इनमें सुग्रीम के रोल में राकेश बेदी, मेघनाद के किरदार में राजा चौधरी, विभीषण की भूमिका में अवतार गिल, हनुमान के रोल में विंदू दारा सिंह, राम की भूमिका में अंगद हसीजा तो सीमा के किरदार में शिल्पा रायजादा ने इंद्रधनुषी रंग भरे।

   लवकुश रामलीला के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल हाई-टेक ध्वनि प्रभाव और ग्राफिक्स के साथ रामलीला मंचन के अलावा त्योहार की पूरी अवधि में उचित सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर भी पूरी तरह सतर्क है। बता दें कि 40 वर्ष पुरानी लवकुश रामलीला की शुरुआत 10 अक्टूबर से हुई है, जो 21 अक्टूबर तक चलेगी।

About MD MUZAMMIL

Check Also

आदिवासियों की समस्या को उजागर करती टी-सीरीज की शार्ट फिल्म ” जीना मुश्किल है यार” विश्व फ़िल्मफेस्टिवल में  

   आदिवासियों की समस्या को उजागर करती शार्ट फिल्म ‘ जीना मुश्किल है यार’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *