Sunday , April 22 2018
Home / देश / मुगलों को नाकों चने चबवाने वाले मेवाड़ के शेर महाराणा प्रताप की आज है पुण्यतिथि
maharana pratap

मुगलों को नाकों चने चबवाने वाले मेवाड़ के शेर महाराणा प्रताप की आज है पुण्यतिथि

महाराणा प्रताप मेवाड़ के महान हिंदू शासक थे. सोलहवीं शताब्दी के राजपूत शासकों में महाराणा प्रताप ऐसे शासक थे, जो अकबर को लगातार टक्कर देते रहे. 19 जनवरी 1597 को महाराणा प्रताप की मौत हो गई थी. अब इस दिन देश में अलग-अलग जगह कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं.

ये भी पढ़े:  ‘पद्मावती’ से ‘पद्मावत’: अब सुप्रीम कोर्ट की डबल बेंच में अपील करेगी करणी सेना, आज ठाणे विरोध मार्च

आइए जानते हैं उनसे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य:

हल्दीघाटी का युद्ध मुगल बादशाह अकबर और महाराणा प्रताप के बीच 18 जून, 1576 ई. को लड़ा गया था. अकबर और राणा के बीच यह युद्ध महाभारत युद्ध की तरह विनाशकारी सिद्ध हुआ था.

ऐसा माना जाता है कि हल्दीघाटी के युद्ध में न तो अकबर जीत सका और न ही राणा हारे. मुगलों के पास सैन्य शक्ति अधिक थी तो राणा प्रताप के पास जुझारू शक्ति की कोई कमी नहीं थी.

महाराणा प्रताप का भाला 81 किलो वजन का था और उनके छाती का कवच 72 किलो का था. उनके भाला, कवच, ढाल और साथ में दो तलवारों का वजन मिलाकर 208 किलो था.

देश और दुनिया के इतिहास में आज की महत्वपूर्ण घटनाएं

आपको बता दें हल्दी घाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप के पास सिर्फ 20000 सैनिक थे और अकबर के पास 85000 सैनिक. इसके बावजूद महाराणा प्रताप ने हार नहीं मानी और स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करते रहे.

कहते हैं कि अकबर ने महाराणा प्रताप को समझाने के लिए 6 शान्ति दूतों को भेजा था, जिससे युद्ध को शांतिपूर्ण तरीके से खत्म किया जा सके, लेकिन महाराणा प्रताप ने यह कहते हुए हर बार उनका प्रस्ताव ठुकरा दिया कि राजपूत योद्धा यह कभी बर्दाश्त नहीं कर सकता.

महाराणा प्रताप ने अपने जीवन में कुल 11 शादियां की थीं. कहा जाता है कि उन्होंने ये सभी शादियां राजनैतिक कारणों से की थीं.

महाराणा प्रताप को बचपन में कीका के नाम से पुकारा जाता था.

कुछ यूं ढहा रॉबर्ट मुगाबे का किला, सेना के समर्थन से ही मिलेगा जिम्बाब्वे को अगला राष्ट्रपति!

महाराणा प्रताप का सबसे प्रिय घोड़ा चेतक था. महाराणा प्रताप की तरह ही उनका घोड़ा चेतक भी काफी बहादुर था.

बताया जाता है जब युद्ध के दौरान मुगल सेना उनके पीछे पड़ी थी तो चेतक ने महाराणा प्रताप को अपनी पीठ पर बैठाकर कई फीट लंबे नाले को पार किया था.आज भी चित्तौड़ की हल्दी घाटी में चेतक की समाधि बनी हुई है.

हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप की तरफ से लडने वाले सिर्फ एक मुस्लिम सरदार था -हकीम खां सूरी.

About Team Web

Check Also

आज पटना में है तेजप्रताप की सगाई!

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के बड़े पुत्र तेजप्रताप यादव की …