Saturday , December 15 2018
Home / राज्य / बिहार बोर्ड के परीक्षा पैटर्न में हुआ बड़ा बदलाव!
PC: Kodmedia

बिहार बोर्ड के परीक्षा पैटर्न में हुआ बड़ा बदलाव!

पटना: राज्य में अगले वर्ष होने वाली इंटर और मैट्रिक परीक्षा के पैटर्न में बिहार बोर्ड ने बड़ा फेरबदल कर दिया है. दोनों ही परीक्षाओं के सभी विषयों में अब 50 फीसदी सवाल सिर्फ वस्तुनिष्ठ के होंगे. इन सवालों में चार ऑप्शन होंगे, जिनका जवाब परीक्षार्थियों को ओएमआर शीट पर ही देना पड़ेगा.

पहले इतने नम्बरों की होती थी परीक्षा

दीर्घ और लघु उत्तरीय प्रश्नों में भी परीक्षार्थियों को अतिरिक्त प्रश्नों का ऑप्शन दिया जाएगा. ताकि विद्यार्थी उसमें से चुन कर प्रश्नों का सही जवाब दे सकें. बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने प्रेस कांफ्रेंस में इस संबंध में जानकारी दी. उन्होंने बताया कि रिजल्ट में सुधार लाने की प्रक्रिया के उद्देश्य से परीक्षा पैटर्न में यह बदलाव किया गया है. गौरतलब है कि पहले इंटर की परीक्षा में ऑब्जेक्टिव 40 अंकों के होते थे, जबकि साल की मैट्रिक परीक्षा में वस्तुनिष्ठ सवाल नहीं ही पूछे गये थे. प्रायोगिक परीक्षा का सेंटर गृह अनुमंडल में होगा.

एक से अधिक दिन भी ली जा सकती है परीक्षा

परीक्षार्थियों की भारी संख्या के मद्देनजर एक ही विषय की परीक्षा एक से अधिक दिन में भी ली जा सकती है. वहीं, म्यूजिकल प्रायोगिक परीक्षा संबंधी निर्णय अभी समिति द्वारा नहीं लिया गया है.

इस तारीख को मॉडल पेपर होगा जारी

समिति ने परीक्षार्थियों की बेहतर तैयारी के लिए मॉडल प्रश्न पत्र तैयार किया है और इसे जल्द ही वेबसाइट पर अपलोड किया जायेगा. इंटर का मॉडल पेपर 10 नवंबर को और मैट्रिक का 15 नवंबर तक वेबसाइट पर अपलोड कर जा सकता है. ताकि परीक्षार्थी सेंटअप परीक्षा से पहले मॉडल पेपर के माध्यम से परीक्षा की तैयारी कर सकें.

इंटर और मैट्रिक परीक्षा में ओएमआर शीट का होगा उपयोग

इस बार के इंटर और मैट्रिक परीक्षा में ओएमआर शीट का प्रयोग किया जाएगा ताकि किसी भी प्रकार की कोई हेरफेर ना किया जा सके.

तीन तरह के होंगे प्रश्न

इस बार के परीक्षा में तीन तरह के प्रश्न पूछे जायेंगे. इसमें एक अंक के 50 फीसदी सवाल वस्तुनिष्ठ और दो अंक के लघु उत्तरीय और पांच अंक के दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे जायेंगे.

 इन विषयों में पांच से अधिक अंक के पूछे जायेंगे प्रश्न

केवल भाषा से संबंधित विषयों में ही पांच से अधिक अंक के सवाल  पूछे जायेंगे. लघु उत्तरीय में यदि दस प्रश्न के जवाब देने होंगे, तो उसमें कुल 5 प्रश्न अलग से होंगे, ताकि 15 में से 10 प्रश्न छात्र-छात्राएं अपनी सुविधा के मुताबिक चयन कर लिख सकें. वहीं, लघु उत्तरीय में सभी प्रश्नों के साथ एक प्रश्न अथवा के भी में पूछे जायेंगे. इससे परीक्षार्थियों को परीक्षा में अतिरिक्त प्रश्न की सुविधा मिल सकेगी. इससे रिजल्ट का परिणाम बेहतर होगा और प्रतिशत में भी बढ़ोतरी होने की उम्मीद है. वहीं, गणित और विज्ञान के विषयों में न्यूमिरिक्ल्स के सवाल भी पूछे जायेंगे.

About KOD MEDIA

Check Also

क्या “उरी” में सर्जिकल हमले से जुड़े अनकहे और अनसुने राज़ से उठेगा पर्दा?

आर.एस.वी.पी की आगामी फ़िल्म “उरी” ने अपनी प्रत्येक घोषणा के साथ फ़िल्म के प्रति दर्शकों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *