Thursday , May 24 2018
Home / देश / नागालैंड का यह क़बीला काट लेता है लोगों के सिर, जरा बचकर रहना
PC: Kodmedia

नागालैंड का यह क़बीला काट लेता है लोगों के सिर, जरा बचकर रहना

नागालैंड के बारे में आज तक आपने कई बाते और किस्से सुने होंगे लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे राज और बाते जिनके बारे शायद ही आप जानते हों.

जी हां नागालैंड ना सिर्फ अपनी खूबसूरती के लिए फेमस है बल्कि यहां एक बेहद खतरनाक और जानलेवा जनजाति भी रहती है जो लोगों के सर काट कर घर में सजाना बेहद सम्मान की बात मानते हैं.

PC: kodmedia

घने जंगलों के बीच म्यांमार सीमा से लगता भारत का आख़िरी गांव है. भारत के इस पूर्वोत्तर राज्य में 16 जनजातियां रहती हैं. कोंयाक आदिवासियों को बेहद खूंखार माना जाता है. अपने क़बीले की सत्ता और ज़मीन पर क़ब्जे के लिए वे अक्सर पड़ोस के गांवों से लड़ाईयां किया करते थे.

कोंयाक गांव क्योंकि पहाड़ की चोटी पर है, इसलिए वे वहाँ से आसानी से अपने दुश्मनों पर नज़र रख सकते हैं.लोंगवा का आधा हिस्सा भारत में पड़ता है और आधा म्यांमार में. सदियों से इन लोगों के बीच दुश्मन का सिर काटने की प्रथा चल रही थी, जिस पर 1940 में प्रतिबंध लगाया गया.

PC: Kodmedia

हत्या या दुश्मन का सिर धड़ से अलग करने को यादगार घटना माना जाता था और इस कामयाबी का जश्न चेहरे पर टैटू बनाकर मनाया जाता था. कोंयाक सिर काटे जाने के जमाने में दुश्मनों की खोपड़ियों पर क़ब्ज़ा कर इन्हें प्रमुखता से प्रदर्शित करते थे, लेकिन सिर काटे जाने पर रोक लगाने के बाद इन खोपड़ियों को गांव से हटा दिया गया और ज़मीन में दफन कर दिया गया

बात करे कोंयाक झोपड़ियों की तो यह मुख्य रूप से बांस की बनी होती हैं. ये काफ़ी विशाल होती हैं और इनमें कई हिस्से होते हैं, जैसे रसोई, खाना खाने, सोने और भंडारण के लिए अलग-अलग स्थान.

About Jyoti Yadav

Check Also

कर्नाटक चुनाव:-प्रधानमंत्री मोदी और कांग्रेस के अदयक्ष राहुल गांधी एक दूसरे पे बार पलटबार किये

कर्नाटक विधानसभा चुनाव जैसे जैसे करीब आ रहे हैं वैसे ही बीजेपी और कांग्रेस एक …