Wednesday , January 17 2018
Home / मनोरंजन / FILM REVIEW: दिल को छू गई श्रीदेवी की ‘मॉम’

FILM REVIEW: दिल को छू गई श्रीदेवी की ‘मॉम’

मॉम की कहानी है एक मां और उसके बदले की कहानी शुरू होती है बायोलॉजी की टीचर देवकी (श्रीदेवी) के साथ. देवकी के स्कूल में उसकी सौतेली बेटी आर्या (सजल अली) भी पढ़ती है. आर्या अपनी मां से बिल्कुल प्यार नहीं करती, लेकिन उसकी मां उससे बहुत प्यार करती है।
 
आर्या के स्कूल में पढ़ने वाला एक लड़का मोहित, आर्या को अश्लील मैसेजेस भेज कर परेशान करता है. जब इस बात का पता देवकी को चलता है, तो वह उसे सज़ा देती है. मोहित बदला लेने के लिए एक दिन आर्या को किडनैप कर लेता है और उसका रेप करके सड़क पर फेंक देता है. पुलिस ऑफिसर मैथ्यू फ्रांसिस (अक्षय खन्ना) इस केस की तहकीकात करते हैं. कोर्ट केस में सबूतों के अभाव में मोहित केस जीत जाता है।
 
लेकिन एक मां को ये फैसला नागवार गुज़रता है, वो डिटेक्टिव दयाशंकर (नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी) की मदद लेती है.यहां से शुरू होता है एक मां का बदला.इसके बाद देवकी आरोपियों से कैसे बदला लेती है और क्राइम ब्रांच ऑफिसर मैथ्यू फ्रांसिस की नजर होने के बावजूद कैसे बदला लेती है..?
 
मॉम हो सकता है कहानी के मामले में रवीना टंडन की फिल्म “मातृ” की याद दिलाए लेकिन ये डायरेक्शन रवि उद्यार का फिल्म को पेश करने का अंदाज है जो आपके उपर काफी गहरा असर छो़ड़ जाएगा. मॉम के कई सीन हैं जो देखकर आप भी कांप जाएंगे. श्रीदेवी की जितनी तारीफ़ की जाए, उतनी कम है।
 
एक मां का अपने बच्चे के लिए इमोशन और फिर उसकी बेटी का रेप करने वालों के लिए ग़ुस्सा, ये सब देखकर आप एक बार फिर श्रीदेवी के अभिनय के फैन हो जाएेंगे. श्रीदेवी में आज भी एक चुंबकीय आकर्षण है, जो ये उनकी 300वीं फिल्म है और इस फिल्म को भी देखकर भी आप यहीं कहेंगे कि वाकई आज की एक्ट्रेसेस भी उनके आगे शरमा जाएं।
 
नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का लुक और उनकी ऐक्टिंग देखने के बाद इस बात का एहसास होता है कि फिल्म में अपने अभिनय की छाप छोड़ने के लिए बड़े-बड़े डायलॉग्स या ज़्यादा फ्रेम्स की ज़रूरत नहीं होती है।
 
एक छोटा-सा रोल करके भी आप पूरी फिल्म अपने नाम कर सकते हैं. पाकिस्तानी ऐक्ट्रेस सजल अली और अदनान सिद्दीकी का अभिनय भी लाजवाब है.इस वीकेंड अच्छी और दमदार मैसेज वाली फिल्म आपका इंतज़ार कर रही है।
 

 रेटिंग :3.5

About Web Team

Check Also

राज्यों में ‘पद्मावत’ को बैन करने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे फिल्म के निर्माता