Sunday , February 24 2019
Home / मनोरंजन / भाई शमास सिद्दीकी की फिल्म ‘बोले चूड़ियां’ में रोमांटिक अंदाज में नजर आएंगे नवाजुद्दीन सिद्दीकी

भाई शमास सिद्दीकी की फिल्म ‘बोले चूड़ियां’ में रोमांटिक अंदाज में नजर आएंगे नवाजुद्दीन सिद्दीकी

अपनी हालिया रिलीज़ सुपरहिट फ़िल्म ‘ठाकरे’ की कामयाबी से बेहद ख़ुश हरफ़नमौला कलाकार नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी जल्द फ़िल्म ‘बोले चूड़ियां’ में एक हद से ज़्यादा प्यार करनेवाले आशिक़ के रोल में नज़र आएंगे. नवाज़ुद्दीन को विभिन्न तरह के किरदारों को बेहद आसानी से निभाने में महारत हासिल है और इस फ़िल्म में उनका किरदार भी अपने आप में बेहद अलहदा होगा.

ग़ौरतलब है कि ‘बोले चूड़ियां’ वुडपेकर मूवीज़ के राजेश भाटिया और किरण भाटिया के साथ नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की ये दूसरी फ़िल्म होगी. नवाज़ुद्दीन उनकी फ़िल्म ‘मोतिचूर के लड्डू’ में पहले से ही काम कर रहे हैं.

अपने किरदारों के साथ हमेशा प्रयोग करनेवाले नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को लगता है कि सिनेमा का ये दौर उनके लिए बेहद एक्साइटिंग है क्योंकि दर्शक के फ़िल्म देखने का नज़रिया भी काफ़ी बदला और परिपक्व हुआ है. उन्होंने इस बात का भी ख़ुलासा किया कि वो हमेशा चुनौतीपूर्ण किरदारों की तलाश में होते हैं और ऐसे रोल्स निभाना उन्हें बेहद पसंद है.

बेहद ख़ुशी नज़र आ रहे डायरेक्टर शमास सिद्दीकी को लगता है कि इस रोमांटिक ड्रामा फ़िल्म में उनके भाई के साथ काम करना उनके लिए बेहद फ़क्र की बात है. इससे पहले शमास ने कई ऐड फ़िल्में और एक शॉर्ट फ़िल्म ‘मियां कल आना’ भी बनायी थी, जिसे 34 अंतरराष्‍ट्रीय फ़िलम फ़ेस्टिवल में प्रदर्शित करने का सम्मान मिला था और इसे 10 पुरस्कारों से भी नवाज़ा गया था. उन्होंने ‘मंटो’ फ़िल्म को भी को-प्रोड्यूस किया था, जिसमें नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने मंटो की शीर्षक भूमिका निभायी थी.

निर्माता राजेश भाटिया ने इस बात की पुष्टि कि फ़िल्म की शूटिंग 45 दिनों में स्टार्ट टू फ़िनिश आधार पर पूरी की जाएगी. शूटिंग एक मई से शुरू होगी और 20 जून, 2019 तक ख़त्म हो जाएगी. उम्मीद की जा रही है कि ये फ़िल्म इस साल अक्तूबर तक रिलीज़ हो जाएगी.

हालांकि अभी तक नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के अपोज़िट किसी लीडिंग हीरोइन का चयन नहीं किया गया है. अब ये देखना दिलचस्प होगा कि नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के सामने पहले से ही मशहूर किसी अभिनेत्री को लिया जाता है या फिर उनके सामने किसी नई अभिनेत्री को मौका मिलता है.

About MD MUZAMMIL

Check Also

आदिवासियों की समस्या को उजागर करती टी-सीरीज की शार्ट फिल्म ” जीना मुश्किल है यार” विश्व फ़िल्मफेस्टिवल में  

   आदिवासियों की समस्या को उजागर करती शार्ट फिल्म ‘ जीना मुश्किल है यार’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *