Saturday , December 16 2017
Home / राज्य / नेताजी सुभाषचंद्र बोस के ड्राइवर कर्नल निजामुद्दीन का निधन

नेताजी सुभाषचंद्र बोस के ड्राइवर कर्नल निजामुद्दीन का निधन

आजमगढ़ : नेताजी सुभाष चंद्र बोस के ड्राइवर और नजदीकी रहे कर्नल निजामुद्दीन का सोमवार को उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में निधन हो गया। वो 117 साल के थे। निजामुद्दीन के परिजनों ने बताया कि निजामुद्दीन लंबे समय से बीमार थे और तकरीबन सुबह चार बजे पैतृक गांव मुबारकपुर में आखिरी सांस ली। आज ही उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। कर्नल निजामुद्दीन नेताजी द्वारा बनाए गए इंडियन नेशनल आर्मी के सदस्य थे। साल 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान नरेंद्र मोदी ने बनारस में कर्नल निजामुद्दीन का पैर छूकर आशीर्वाद लिया था

निजामुद्दीन के परिवार में पत्नी अजबुनिशा के अलावा तीन बेटे हैं। गांव में वो अपनी पत्नी और छोटे बेटे शेख अकरम के साथ रहते थे। उनका एक बेटा सऊदी अरब में और दूसरा मुंबई में रहता है। उनकी दो बेटियां भी हैं जिनका शादी हो चुकी है और अपने परिवार के साथ रहती हैं। निजामुद्दीन के छोटे बेटे ने अपने पिता को स्वतंत्रता सेनानी का दर्जा दिलाने की बहुत कोशिश की मगर उसे सफलता हाथ नहीं लगी।

जानकारी के मुताबिक कर्नल निजामुद्दीन नेताजी के साथ बर्मा में साल 1943 से साल 1945 तक साथ रहे थे। निजामुद्दीन बताया करते थे कि 20 अगस्त 1947 को बर्मा में छितांग नदी के पास नेताजी को उन्होंने आखिरी बार नाव पर छोड़ा था। उसके बाद उनकी मुलाकात नहीं हुई। निजामुद्दीन ने साल 1942 में आजमगढ़ से सिंगापुर भागकर ब्रिटिश सेना ज्वाइन कर ली थी लेकिन बाद में नेताजी के आह्वान पर आजाद हिंद फौज में शामिल हो गए थे। निजामुद्दीन नेताजी के ड्राइवर के साथ-साथ उनके बॉडीगार्ड भी थे। 1944 में नेताजी की रक्षा करते हुए उन्हें एक गोली भी लगी थी।

About विभव शुक्ला

Young Journalist from Delhi. Core team membar of Khabar On Demand

Check Also

गुजरात चुनाव में साबित कर देंगे कौन ‘जबरदस्त नेता’ है और कौन ‘जबरदस्ती का नेता’: केशव प्रसाद मौर्य