Sunday , July 23 2017
Home / फैशन / Health & Fitness / बारिश के मौसम में डेंगू सहित इन बीमारियों में लाभकारी होगी ये घरेलू उपाय

बारिश के मौसम में डेंगू सहित इन बीमारियों में लाभकारी होगी ये घरेलू उपाय

नई दिल्ली: अब लगभग पूरे देश में मानसून ने दस्तक दे दी है, कई राज्यों में बाढ़ का प्रकोप भी पड़ चूका है. बारिश की वजह से मौसम खुशनुमा तो हो ही जाता है पर इसके साथ आती है बीमारियां जो मानव जीवन के लिए घातक सिद्ध होती है. बारिश के मौसम में यदि सबसे ज्यादा कोई बीमारी परेशान करती है वो है दस्त, मलेरिया और डेंगू.

दस्त के कारण

डायरिया हमें वायरल, बैक्टीरियल संक्रमण के कारण होता है, लेकिन इसका सबसे मुख्य कारण हमारा गलत तरीके से खानपान, प्रदूषित पानी और हमारी आंतो में गड़बड़ी डायरिया जैसी बीमारी को जन्म देते हैं.

दस्त का तुरंत रामबाण इलाज जीरा

जब कभी दस्त लगें हों तो एक चम्मच जीरा (5 ग्राम) हल्का भूनकर पीस लीजिये, अभी इसको तुरंत दही या दही की लस्सी के साथ लेने से तुरंत लाभ हो जाता है.

मरोड़ के साथ पतले दस्त लगें तो जीरा और उतनी ही मात्रा में सौंफ को भून लीजिये, इन दोनों को पीसकर मिला लीजिये, अभी 1 चम्मच दिन में 3-4 बार लेने से मरोड़ के साथ लगने वाले पतले दस्त में तुरंत लाभ होता है.

उपरोक्त बताये गए दोनों प्रयोग बहुत ही रामबाण और तुरंत असर दिखाने वाले हैं, कोई भी भाई या बहन इनको अपना कर तुरंत ही असर देख सकता है. और इस प्रयोग को जनहित में शेयर करना ना भूलें.

मलेरिया के कारण

मलेरिया एक ऐसा रोग है जिसमे रोगी को सर्दी और सिरदर्द के साथ बार-बार बुखार आता है। इसमें बुखार कभी कम हो जाता है तो कभी दुबारा आ जाता है। गंभीर मामलों में रोगी कोमा में चला जाता है या उसकी मृत्यु तक हो जाती है। मलेरिया प्लाज़्मोडियम (plasmodium) नामक परजीवी (parasite) के कारण होता है। मलेरिया मादा एनोफेलीज मच्छर (Anopheles mosquito) के काटने से शुरू होता है जो इस परजीवी को शरीर में छोड़ता है।

डेंगू और चिकनगुनिया के कारण और उपाय

बदलते मौसम के साथ डेंगू और चिकनगुनिया ने पैर पसारने शुरू कर दिए है. डेंगू बुखार में प्लेटलेट्स का स्तर बहुत तेजी से नीचे गिरता है जिसके कारण शरीर में कमजोरी हो जाती है और जोड़ों में कई महीनों तक दर्द बना रहता है. डेंगू होने के बाद आपको अस्पताल के चक्कर काटने पड़ते है. वैसे कछ घरेलू चीजें भी हैं, जिसकी मदद से आपको इस बीमारी से निजात मिल सकती है.

तुलसी का पौधा अक्सर हमारे घरों में रहता है, तुलसी के पत्तों को गरम पानी में उबालकर डेंगू पीड़ित को पिलाएं. तुलसी का ये काढ़ा दिनभर में तीन से चार बार पीएं. इससे भी इम्यून सिस्टम बेहतर रहता है.

पपीते की पत्तियां, डेंगू में सबसे असरदार मानी जाती हैं. पपीते की पत्तियों में मौजूद पपेन एंजाइम शरीर की पाचन शक्ति को ठीक करता है. पपीते की पत्तियों का जूस निकालर पीने से प्लेटलेट्स की मात्रा तेजी से बढ़ती है.

डेंगू में नारियल पानी पीना बहुत फायदेमंद रहता है, इसमें एलेक्ट्रोलाइट्स, मिनरल और अन्य जरुरी पोषक तत्व होते हैं जो शरीर को मजबूत बनाते हैं.

डेंगू में मेथी के पत्तों को पानी से उबालकर हर्बल चाय के रूप में इसका उपयोग करें. मेथी से शरीर के विपाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं जिससे डेंगू के वायरस भी खत्म हो जाते हैं.

गिलोय का आयुर्वेद में बहुत महत्व है, यह मेटाबॉलिक रेट बढ़ाने के साथ ही प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखने और बॉडी को इंफेक्शन से बचाने में मदद करती है.

About Jyoti Yadav

Check Also

राजद सुप्रीमो लालू और राबड़ी को झटका, बंद हुई एयरपोर्ट पर मिलने वाली विशेष सुविधा

नई दिल्ली। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और उनकी पत्नी राबड़ी देवी को शनिवार को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *