Thursday , November 23 2017
Home / देश / खुशखबरी: यूट्यूब पर बोरिंग ऐड्स देखने से मिलेगी मुक्ति!

खुशखबरी: यूट्यूब पर बोरिंग ऐड्स देखने से मिलेगी मुक्ति!

सैन फ्रांसिस्को: अगली बार जब भी आप यूट्यूब पर कोई सांग या मूवी देखे तो जरा ध्यान से देखें. काफी कंपनियों के विज्ञापन फ़्लैश करते हैं. जो एक मार्केटिंग का हिस्सा हैं और इससे यूट्यूब को काफी कमाई होती हैं. पर अब लगता हैं इस कमाई पर ब्रेक लगनें वाला हैं क्योंकि कई बड़ी कंपनियों ने अपना विज्ञापन देना बंद कर दिया हैं.

ये हैं सबसे बड़ी वजह

होता है क्या की जब भी आप कोई विडियो देखने के लिए यूट्यूब पर जातें हैं तो विडियो स्टार्ट होने से पहले कुछ सेकंड का विज्ञापन शुरू हो जाता हैं. पर यहाँ तक तो ठीक हैं लेकिन कंपनियों को समस्या होने लगी आपत्तिजनक विषयों वाले वीडियो के साथ मार्केटिंग विज्ञापनों को दिखाने से.

लगा बट्टा

आपत्तिजनक विडियो के साथ कई कंपनियों के विज्ञापन होने से कंपनी के साख पर बट्टा लग सकता हैं जिससे देखते हुए पेप्सिको, वॉलमार्ट स्टोर्स और स्टारबक्स ने यूट्यूब पर अपने विज्ञापनों को रद्द कर दिया.

गूगल के ऑटोमेटेड प्रोग्राम की वजह से उनके ब्रांडों के विज्ञापनों आपत्तिजनक विडियो के साथ प्रदर्शित होते रहें जो उनके नुकसान की वजह बन रही थी.

इन कंपनियों ने लिया वापस विज्ञापन

इससे पहले एटीएंडटी, वेरिजोन, जॉनसन एंड जॉनसन, फॉक्सवैगन और कई अन्य कंपनियों ने यूट्यूब से अपने विज्ञापन वापस ले लिये थे. ब्रांडों की छवि खराब करने के लिए गूगल ने माफी मांगी थी और आपत्तिजनक वीडियो के साथ उनके विज्ञापन ना दिखाने के लिए कदम उठाने का जिक्र किया था.

ऑटोमेटेड प्रोग्राम पर निर्भर है विज्ञापन

गूगल, यूट्यूब वीडियो में विज्ञापन डालने के लिए ऑटोमेटेड प्रोग्राम पर निर्भर है. यूट्यूब पर हर मिनट करीब 400 घंटे के वीडियो डाले जाते हैं.

गूगल ने उठाया ये जरुरी क़दम

कंपनी ने वीडियो की समीक्षा करने के लिए और अधिक लोगों को काम पर रखने और कम्प्यूटर द्वारा बेहद खराब वीडियो का पता लगाने के लिए अधिक प्रभावशाली प्रोग्राम विकसित करने की बात कही है.

कंपनियों ने कहा

विज्ञापनदाताओं ने साफ कहा हैं कि जब तक उन्हें भरोसा नहीं होगा कि स्थिति गूगल के नियंत्रण में है तब तक वे यूट्यूब पर विज्ञापन नहीं देना चाहेंगे.

बड़ी कंपनियों की नाराजगी

वालमार्ट ने एक बयान में कहा, जिस सामग्री के साथ हमें जोड़ा जा रहा है वह घटिया है और हमारी कंपनी के मूल्यों के खिलाफ है. वालमार्ट, पेप्सिको और कई अन्य कंपनियों ने कहा है कि वे यूट्यूब पर विज्ञापन देना बंद करने के अलावा उन वेबसाइटों पर भी विज्ञापन देना बंद कर देगी जिन पर गूगल विज्ञापन डालता है.

यदि गूगल विज्ञापनदाताओं को वापस लाने में फेल रहता है तो उसके आमदनी में अरबों डॉलर का नुकसान हो सकता है.

About khabar On Demand Team

Check Also

भूखे रहने वाले युवा हो रहे है मधुमेह का शिकार