Tuesday , March 19 2019
Home / लेटेस्ट न्यूज / नेक्स्ट एजुकेशन ने पढ़ाई को मजेदार और इंटरेक्टिव बनाने के लिए लॉन्च की क्यूआर कोड्स के साथ किताबें

नेक्स्ट एजुकेशन ने पढ़ाई को मजेदार और इंटरेक्टिव बनाने के लिए लॉन्च की क्यूआर कोड्स के साथ किताबें

नई दिल्ली: नेक्स्ट एजुकेशन इंडिया प्रा.लि भारत का अग्रणी एजुकेशन सॉल्यूशन प्रोवाइडर होने के साथ ही के-12 सेग्मेंट में पुरोधा रहा है। उसने अपनी पाठ्यपुस्तकों में अब क्यूआर कोड्स भी जोड़ दिए हैं। यह कदम देश के एजुकेशन लैंडस्केप को डिजिटली डिसरप्ट करने के लिए उठाया गया है। 2डी/3डी एनिमेशंस जैसी कटिंग-एज टेक्नोलॉजी, रियल लाइफ वीडियो और डिजिटल सिमुलेशंस के जरिये, नेक्स्ट एजुकेशन के टेक-बेस्ड सॉल्यूशंस टीचिंग-लर्निंग के अनुभव को टीचर्स और स्टूडेंट्स के लिए और समृद्ध कर रहे हैं। नेक्स्ट एजुकेशन भारत की उन पहली कंपनियों में शुमार है जिसने पाठ्य पुस्तकों के साथ टेक्नोलॉजी को इंटीग्रेट किया है। स्टूडेंट्स को हाई-क्वालिटी, क्रॉस-चैनल मल्टीमीडिया कंटेंट परोसा है, जिसके जरिये स्मार्टफोन की बढ़ती पहुँच का फायदा उठाया जा सके। इस फीचर ने अब तक 17 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स को लाभ पहुंचाया है।

नेक्स्ट एजुकेशन ने क्यूआर कोड्स को पाठ्यपुस्तक में रणनीतिक जगहों पर रखा है। यह हुक्स के तौर पर काम करते हैं जो स्टूडेंट्स को एंगेज रखते हैं। उन्हें पढ़ाई से जोड़े रखते हैं। उन्हें मुख्य कंसेप्ट्स के बारे में गहराई से समझ विकसित करने का माध्यम बनते हैं। उदाहरण के लिए, पाचन प्रक्रिया को पढ़ने के दौरान, स्टूडेंट्स सिर्फ क्यूआर कोड को स्कैन पर पाचन तंत्र में आहार की यात्रा पर बने वीडियो तक पहुँच सकते हैं। इसके बाद वे पॉप क्विज देखकर यह भी पता लगा सकते हैं कि उन्हें यह कंसेप्ट कितना समझ आया। वे संबंधित ई-बुक को भी डाउनलोड कर सकते हैं।

इस पर बात करते हुए नेक्स्ट एजुकेशन के सह-संस्थापक और सीईओ, ब्यास देव राल्हन ने कहा, “भारत इस समय दुनिया में सबसे ज्यादा युवा आबादी वाला देश है। इसका मतलब यह हुआ कि दुनियाभर में यहाँ सबसे ज्यादा संभावित स्टूडेंट्स हैं। इस युवा कंज्यूमर बेस को लेटेस्ट टेक्नोलॉजिकल टूल्स चाहिए जिससे वे अपने पढ़ने-सीखने के अनुभव को नया आयाम दे सके। हालांकि, चूंकि ज्यादातर डिजिटल टूल्स जैसे कि लैपटॉप्स, टेबलेट्स और पीसी अब भी महंगे हैं और देश के कई परिवारों की पहुँच से दूर है, भारत में अब भी किताबें ही पढ़ाई का सबसे प्रभावी माध्यम बने हुए हैं। हम देशभर में सीखने वालों को किताबों की पर्वेसिवनेस और स्मार्टफोन का इस्तेमाल एंगेजिंग, इमर्सिव और सुपरलेटिव एक्सपीरियंस देना चाहते हैं।”

नेक्स्ट एजुकेशन के बारे में…

नेक्स्ट एजुकेशन एजुकेशन को अपने इनोवेटिव और एंगेजिंग टेक्नोलॉजी बेस्ड के-12 सॉल्यूशंस के जरिये बदल रहा है। सीबीएसई, आईसीएसई, आर्मी और सभी स्टेट बोर्ड्स को सात भारतीय भाषाओं में सिलेबस को कवर करते हुए सॉल्यूशन दे रहा है। 10 हजार से ज्यादा स्कूलों के 1,50,000 से ज्यादा टीचर्स इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। एक करोड़ से ज्यादा स्टूडेंट्स तक यह सॉल्यूशन पहुँच रहा है। नेक्स्ट एजुकेशन के एजुकेशनल सॉल्यूशन और सर्विसेस राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर तेजी से पहचान हासिल कर रहे हैं।

About MD MUZAMMIL

Check Also

23 मई को कौन मनायेगा दिवाली?

23 मई यानी कैलेंडर ईयर का 143 वां दिन. 23 मई 2019 को दुनिया के …