Saturday , August 19 2017
Home / फैशन / Makeup & Skincare / स्किन के लिए विस्तार से जाने पपीते के फायदे

स्किन के लिए विस्तार से जाने पपीते के फायदे

पपीता आसानी से और हमेशा मिलने वाला बहुत फायदेमंद फल है. यह एक ऐसा फल है जिसे बीमारी के समय भी खाया जा सकता है. पका हुआ पपीता बहुत स्वादिष्ट होता है. कई प्रकार के खनिज और विटामिन से भरपूर होने के कारण यह शरीर के लिए बहुत लाभदायक होता है.

विश्व में पपीते का सबसे अधिक उत्पादन भारत में होता है. इसकी पैदावार आंध्र प्रदेश , गुजरात , कर्नाटक , मध्यप्रदेश तथा महाराष्ट्र में अधिक होती है.

पपीता सेहत के साथ-साथ सौंदर्य भी संवारता हैं. यह रंग निखारता है, मुहासों दूर करता है और साथ ही त्वचा की कई समस्याओं को भी दूर करता है. उम्र बढ़ने के साथ चेहरे पर झुर्रियां आनी शुरू हो जाती हैं. लेकिन, रोज पपीते का सेवन करने से आप इस समस्या को दूर रख सकते हैं. पपीते में मौजूद विटामिन सी, विटामिन ई और बीटा-कैरोटीन जैसे एंटी-ऑक्सीडेंट आपकी त्वचा को झुर्रियों से बचाते हैं.

आइए जानने की कोशिश करते हैं पपीते के अन्य सौंदर्य लाभ के बारे में.

दाग- धब्बे दूर करना

अगर आपके चेहरे पर काल धब्बे हो गए हों तो खीरे, पपीता और टमाटर का रस बराबर मात्रा में मिलाकर चेहरे पर लेप करें. जब यह लेप सूख जाए तो इस मिश्रण को दोबारा लगायें. चेहरे पर लेप को बीस मिनट लगा रहने के बाद चेहरा ठंडे पानी से धो लें. पपीते का ये पैक आपके चेहरे के धब्बे हटाने में मदद करेगा.

डेड स्किन  दूर करना

पपीते में बीटा हाइड्रॉक्सिल एसिड यानी बीएचएए रसायन पाया जाता है. बीएचएए एक्सफोलिएंट का काम करता है. यानी इसमे त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाने की क्षमता होती है, जिससे त्वचा ज्यादा मुलायम और चिकनी होती है. साथ ही यह फल बीएचएए के जरिए त्वचा की गंदगी और तेल को भी हटाता है, जो मुहांसे का मुख्य कारण है.

पपीते में एक गुण यह भी है कि इससे नियमित स्क्रब करने से चेहरे पर मौजूद दाग धब्बे हल्के हो जाते हैं और रंग भी निखरता है. पपीता लेकर उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें. इसे चेहरे पर पांच मिनट तक मलें फिर साफ पानी से चेहरा धो लें.

 

About ashu

Check Also

 कम जागरूकता और खतरनाक वृद्धि से भारत में हेपेटाइटिस बढ़ा रहा है स्वास्थ्य खतरा!

  गाजियाबाद: 28 जुलाई, 2017 को विश्व हेपेटाइटिस दिवस मनाने की एक पहल में, कोलंबिया एशिया अस्पताल गाजियाबाद ने आज, हैपेटाइटिस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *