Friday , November 24 2017
Home / टेक्नोलॉजी / PM मोदी करेंगे देश के इस सबसे लंबे पुल का उद्घाटन, चलेगी सेना की टैंक!

PM मोदी करेंगे देश के इस सबसे लंबे पुल का उद्घाटन, चलेगी सेना की टैंक!

अगर आपसे पूछा जाय कि देश का सबसे लंबा पुल कौन सा है तो एक सामान्य सा जवाब होगा आपका ‘बांद्रा-कुर्ली सी लिंक’। पर अब समय आ गया अपने जानकारी को थोड़ा सा बदलनें का। जी हां, भारत नें अपना सबसे लंबा पुल असम में बना लिया है, जो कि चीनी सीमा को भी कवर करेगा।

इस पुल को बनाने का खास कारण यह है कि अब तक देश के जवान तक सैन्य सामान पहुंचानें में जिन खास दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा था उसे दूर करना, और इस पुल के निर्माण से वो समस्याएं न सिर्फ दूर हुई है बल्कि पूरी तपह से समाप्त भी हो गई है। इस पुल से भारतीय सेना के टैंक को भी गुजारा जाएगा, जो जरूरत पड़नें पर विदेशी हमलो का मुंह तोड़ जवाब भी देंगे। इस पुल का उद्घाटन 26 मई के प्रधानमंत्री स्वयं करेंगे।

भारत का यह सबसे लंबा पुस असम में बन चुका है। यह पुल लोहित नदी पर बना है, जोकि ब्रह्म पुत्र की सहायक नदी मानी जाती है। इस पुल की लंबाई 9.15 किमी. है, जो बांद्रा-कुर्ली सी लिंक से भी 3.55किमी बड़ी है। इस पुल को 26 मई को प्रधानमंत्री द्वारा खोल दिया जाएगा।

लोहित नदी पर ढोला-सदिया के बीच बवा ये पुल बेहद मजबूत है। इसे भारतीय सेना की जरूरतो को खासा ध्यान में रखकर बनाया गया है। इस पुल की क्षमता 60 टन वजनी टैंको का भार सहन करनें तक की है। जोकि भारतीय सेना को मजबूत बनाने को सहायक है।

वास्तव में तो भारत को इस पुल की जरूरत खास तौर पर थी क्योकि चीन सीमा के पास तेजी से बुनियादी क्षमताओ का विस्तार कर रहा है। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल वें कहा कि इस पुल से असम और अरूणांचल के लोगो को बहुत फायदा होगा। साथ ही यह पुल भारतीय सुरक्षा बलों के लिए भी उपयोगी सिद्ध होगा। सोनोवाल नें कहा कि असम और अरूणांचल प्रदेश हमारे देश के लिए स्टेटेजिक तौर पर गंभीर राज्य है। चूंकि यह पुल चीनी सीमा के पास ही है तो मिलीट्री सामानों जैसे गोला, बारूद को भी सेना के पास तक आसानी से पहुंचाया जा सकता है।

बताते चलें कि इस पुल का निर्माण कार्य 2011 में शुरू हुआ था जिसकी लागत 950 करोड़ आई है। यह पुल खास तौर पर मिलिट्री मूवमेंट को झेलनें लायक बनाया गया है।

About Jaya Dwivedi

Check Also

बाल दिवस: बच्चों ने रन फाॅर चिल्ड्रेन में भाग लिया