Saturday , November 17 2018
Home / देश / गुजरात में मोदी ने किसान रैली को संबोधित किया, कहा प्रधानमंत्री नहीं इस धरती के संतान के रूप में आया हूं

गुजरात में मोदी ने किसान रैली को संबोधित किया, कहा प्रधानमंत्री नहीं इस धरती के संतान के रूप में आया हूं

अहमदाबाद । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के एक दिवसीय दौरे में बनासकांठा जिले में शनिवार को किसानों की एक रैली संबोधित करने पहुंचे। अमूल के एक पनीर फैक्ट्री का उद्घाटन करेंगे। वह भाजपा के गांधीनगर स्थित मुख्यालय का भी दौरा करेंगे।

उद्घाटन के दौरान मौजूद जनसभा में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं आपके बीच प्रधानमंत्री के रूप में नहीं बल्कि इस धरती के संतान के रूप में आया हूं। 25 साल बाद कोई प्रधानमंत्री यहां आया है। यहां के किसान बिना पानी, बिना बरसात यहां के किसानों ने खेती कर के दिखाया। उन्होंने कहा कि यहां के किसान बेहद विपरीत परिस्थिति में खेती करते हैं। गुजराती नहीं बोल रहा हूं क्योंकि देश को पता चलना चाहिए कि बनासकांठा में क्या हो रहा है।

उन्होंने कहा कि बनासकांठा में किसानों ने रेगिस्तान से सोना उपजाया। बनासकांठा के किसान ने प्रगतिशील किसान के रूप छवि बनायी है। एक दो किसान ने नहीं बल्कि यहां सभी किसानों ने आंदोलन खड़ा किया। बनासकांठा ने आलू के उत्पादन का रिकार्ड बनाया है। बनासकांठा में किसानों के विपरीत हालत की चर्चा करते हुए कहा कि जहां किसान ईश्वर का इच्छा पर जिंदगी गुजारता है। वहां आत्महत्या एक रास्ता बच जाता है लेकिन बनासकांठा के किसानों ने पशुपालन को मोड़ दिया। आज मुझे खुशी हुई कि बनासकांठा में श्वेत क्रांति के साथ -साथ स्वीट क्रांति का बिगुल बजाया है। बनासकांठी अब मधु क्रांति के लिए जाना जाता है। मुझे पूरा विश्वास है कि गुजरात में खेतों में दूध के साथ -साथ मधु का भी उत्पादन होगा।

मैं जब मुख्यमंत्री बना था तब किसानों से कहा था कि आप जितना बिजली की जरूरत समझते है उतना ध्यान पानी में भी केंद्रित कर सकते हैं। दुनिया में शहद की मांग बढ़ रहा है। जब नर्मदा का पानी यहां आया है। आज बनास डेयरी ने अमूल ब्रांड के चीज का भी उत्पादन शुरू किया है। दुनिया के कई देश है जो अमूल के चीज मांगते है। उन्होंने कहा कि यह बहुत बड़ा शुरूआत हुआ है।

उन्होंने इसबगोल की गुण का बात करते हुए कहा कि जब कूरियन जिंदा थे तो उन्हें मैंने इसबगोल से आइसक्रीम बनाने की बात कही थी। इन दिनों देश में चर्चा चल रही है नोटों का क्या होगा। आठ तारीख के पहले सौ के नोटों को कोई पूछता था, पचास के नोट की कीमत थी क्या? सब हजार और पांच सौ की नोट पूछते थे। आज छोटे लोगों की इज्जत होती थी। बिल मांगोगे तो कच्चा बिल या छोटा बिल। मकान चाहिए तो चेक में इतना रोकड़े में इतना। भाइयो और बहनों, देश में नोट छापते रहे, छापते रहे और लोग नोटों से दबते रहे। हमारी लड़ाई आतंकवादियों के खिलाफ है। जाली नोट की वजह से आतंकवादियों को ताकत मिलती है। नक्सलवाद, सारे जवान सरेंडर होकर वापस आने लगेंगे, हर किसी को लगता है मुख्यधारा में वापस आने लगेंगे। किसी बेमान को न कालेधन से परेशानी थी न थी भ्रष्टाचार से परेशानी थी। सत्तर साल तक ईमानदार लोगों को परेशान किया। मेरे देश के ईमानदार लोगों को भड़काने के बाद भी साथ दिया है। आजकल बुद्धिमान लोग भाषण सुनाते है मोदी जी आपने इतना बड़ा फैसला लिया, हमारे जीते जी लाभ नहीं मिला है।

प्रधानमंत्री ने बनासकांठा में डेयरी प्लांट का उद्घाटन किया। इस खास वेराइटी के दूध में रोग प्रतिरोधक क्षमता अधिक है। डीसा में डेयरी उद्घाटन के अलावा विशाल जनसभा को भी संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी का यह पहला गुजरात दौरा होगा, जहां वे पार्टी कार्यालय में राज्य के बीजेपी नेताओं से मुलाकात करेंगे। दिनभर के व्यस्त कार्यक्रम के बीच प्रधानमंत्री गांधीनगर के पार्टी कार्यालय में राज्य के भाजपा नेताओं से मुलाकात करेंगे।

About KOD MEDIA

Check Also

क्या “मिर्ज़ापुर” में पंकज त्रिपाठी का किरदार जौनपुर के सांसद धनंजय सिंह से प्रेरित है?

एक्सेल एंटरटेनमेंट की आगामी वेब श्रृंखला “मिर्ज़ापुर” दिल दहला देने वाले एक्शन के क्षणों से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *