Thursday , October 18 2018
Home / देश / गोंडा: स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण गोष्ठी में रिटायर्ड अधिकारियों ने मौजूदा अधिकारियों को दी नसीहत

गोंडा: स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण गोष्ठी में रिटायर्ड अधिकारियों ने मौजूदा अधिकारियों को दी नसीहत

रिपोर्टर: अरुण त्रिपाठी

गोंडा (अरुण त्रिपाठी): भारत विदेश सेवा के रिटायर्ड अफसर डा0 राकेश मैत्रेय ने बृहस्पतिवार को आयुक्त सभागार में आयोजित स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण अन्तर्विभागीय समन्वय एवं अधिकारीगण कार्य दक्षता कार्यशाला में बतोर मुख्य वक्ता अपने विचारों से उपस्थित अधिकारियों को झकझोर दिया।

उन्होंने अधिकारियों को यह चेताया कि स्वच्छ भारत मिशन सिर्फ पंचायतीराज विभाग का कार्यक्रम नहीं बल्कि सभी विभागों के सहयोग से फलीभूत होने वाली भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। जिसका सीधा सम्बन्ध देश के हर नागरिक से चाहे वो किसी भी तबके से आता हो।

आयुक्त देवीपाटन मण्डल की अध्यक्षता में आयुक्त सभागार में स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण अन्तर्विभागीय समन्वय एवं अधिकारीगण कार्य दक्षता कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें भारत विदेश सेवा के रिटायर्ड अफसर डा0 राकेश मैत्रेय ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन को गांव में धरातल पर लागू करने के कम्यूनिकेशन यानी सम्प्रेषण की आवश्यकता है। जब हर अधिकारी यह अहसास करेगा कि यह जिम्मेदारी सिर्फ पंचायतीराज विभाग की ही नहीं बल्कि सभी विभागों की सामूहिक जिम्मेदारी तभी स्वच्छ भारत मिशन सफल हो सकता है।

उन्होंने कहा कि हमें लोगों की आदतें बदलनी होगीं। उन्होने खुलकर अपनी बात रखते हुए कहा कि भारत के गांवों में आज भी लोगों को जब शौचालय बनवाने व उसके उपयोग के बारे में अनुरोध करिए तो वे लड़ जाते हैं। तो जहां समाज में ऐसे लोग रह रहे हों वहां के लोगों के मोटीवेट करने के लिए हमें उन्हें तर्क देना होगा और उनके सामने यह साबित करना होगा कि ऐसा नहीं किया तो आपका यह नुकसान होगा।

उन्होने आंक़ड़े देते हुए बताया कि प्रतिवर्ष भारत में गन्दगी के कारण दो हजार बच्चे प्रति घन्टे मौत के मुंह में समा जाते हैं तथा गन्दगी के कारण भारत में प्रतिवर्ष बीमारियों पर 35 हजार करोड़ रूपए का खर्चा इलाज के लिए लोगों द्वारा किया जाता है। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी और बीएसए से कहा आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों तथा अध्यापकों का सम्मेलन कराएं।

उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकत्री और आशा बहुएं ऐसी श्रृंखला जिनमें हर घर की औरतें सीधे जुड़ी हुई होती हैं। यदि वे महिलाओं को शौचालय बनवाने के लिए प्रेरित करें तो इसके बहुत ही अच्छे परिणाम सामने आएगें। उन्होने कहा कि सभी अधिकारी जिन्हे जो भी दायित्व दिया गया है यदि वे पूरी ईमानदारी से निभाएं और जनता के बीच तथा प्रेक्टिकली काम करें तभी सही ढंग से स्वच्छ भारत मिशन का क्रियान्वयन हो पाएगा।

श्री मैत्रेय ने गांव की एक एक सच्ची और आंखो देखी हुई बातों के उदाहरण देकर मीटिंग में बैठे अधिकारियों को सोचने पर मजबूर कर दिया। आयुक्त देवीपाटन मण्डल सुधेध कुमार ओझा ने कहा कि स्वच्छता अभियान बिना जन जागरण के सम्भव नहीं है इसीलिए उनके द्वारा पूरे मण्डल के 7165 प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में एक साथ स्वच्छता रैली निकलवाकर लोगों को जागरूक करने का अभियान चलाया गया है।

कार्यशाला में डीएम गोण्डा कैप्टेन प्रभान्शु श्रीवास्तव, सीडीओ अशोक कुमार, संयुक्त विकास आयुक्त देवीपाटन मण्डल वी0के0 पाठक, उपनिदेशक पंचायतीराज एस0एन0 सिंह, सीएमओ डा0 संतोष श्रीवास्तव, डीपीआरओ घनश्याम सागर, डीडीओ रजत यादव, पीडी प्रशान्त श्रीवास्तव, डीसी मनरेगा हरिष्चन्द्र प्रजापति, डीसी एनआरएलएम दिनेश यादव, बीएसए आर0के0 वर्मा, प्रभारी डीपीओ दिलीप पाण्डेय, डीसीओ ओ0पी0 सिंह, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत सहित सभी सम्बन्धित विभागों के अधिकारी, बीडीओ, एडीओ पंचायत, जिला समन्वयक स्वच्छ भारत मिशन अभय सिंह रमन, स्वच्छाग्रही तथा ग्राम प्रधानगण उपस्थित रहे।

About KOD MEDIA

Check Also

नमस्ते इंग्लैंड” के लिए अक्षय कुमार ने दिया एक खास संदेश!

सुपरहिट फ़िल्म नमस्ते लंदन के साथ दर्शकों का मनोरंजन करने के बाद, निर्देशक और निर्माता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *