Wednesday , March 20 2019
Home / देश / रामजन्मभूमि पर जल्द से जल्द बनना चाहिए राम मंदिर: संघ प्रमुख मोहन भागवत
RSS chief Mohan Bhagwat

रामजन्मभूमि पर जल्द से जल्द बनना चाहिए राम मंदिर: संघ प्रमुख मोहन भागवत

नागपुर: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विजयादशमी उत्सव में मोहन भागवत ने कहा कि बाबर नाम की एक बर्बर आंधी ने हमारे समाज पर अत्याचार किया. हमारी सांस्कृतिक जागरण की परंपरा हमारे देश में लगातार चल रही है. राजनीति को लेकर हमारे देश में अभिनव प्रयोग हो चुके हैं. उन्होंने कहा कि सत्य और अहिंसा के आधार पर राजनीति की कल्पना केवल हमारे देश का व्यक्ति ही कर सकता है. महात्मा गांधी ने यह करके दिखाया है.

मोहन भागवत ने आगे कहा कि जिनका सूर्य कभी अस्त नहीं होता था ऐसे अंग्रेजों का सामना गांधी जी ने निहत्थे खड़े होकर सिर्फ अपने नैतिक बल के आधार पर किया. हमें बहुत ज्यादा चिंतित रहना पड़े ऐसी स्थिति आज भी नहीं है, लेकिन हमें सतर्क और सजग रहने की आवश्‍कता है. संघ प्रमुख भागवत ने कहा कि हम दुनिया में किसी से शत्रुता नहीं करते लेकिन हमसे शत्रुता करने वाले कई लोग हैं, हमें उनसे सतर्क रहने की जरूरत है.

उन्होंने कार्यक्रम के दौरान कहा कि ऐसे लोगों से बचने का एक ही तरीका है कि हम इतना बलवान बने कि किसी की आक्रमण करने की हिम्मत ही न पड़े. भारतीय जवानों का हौसला बढ़ाते हुए भागवत ने कहा कि हमारी सुरक्षा के लिए जो सीमा पर बंदूक ताने खड़े हैं उनके परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारी और हमारे समाज की है. कोई हमसे लड़ाई करने की हिम्मत ना करे हम इतने बलवान बनेंगे तो दुनिया में भी शांति होगी और हमारे यहां भी शांति बनी रहेगी. उन्होंने कहा कि अगर हमारा सांस्कृतिक जागरण होता रहा तो निश्चित तौर पर भारत विश्वगुरू बनेगा.

अपने संबोधन में संघ प्रमुख ने पाकिस्तान पर निशाना साधा और कहा कि पड़ोस में सरकार बदल गयी लेकिन उनकी नीयत नहीं बदली है. उन्होंने कहा कि सुरक्षा के क्षेत्र में हमें स्वावलंबी होने की आवश्यकता है. सीमा की लड़ाई अंदर की सुरक्षा पर निर्भर करती है.

सबरीमाला मुद्दे पर भागवत ने कहा कि स्त्री पुरुष समानता अच्छी बात है, लेकिन इतने सालों से चली आ रही परंपरा और उसका पालन करने वालों लोगों की भावना का सम्मान नहीं किया गया, उनकी नहीं सुनी गयी. धर्म के मामलों में संबंधित धर्म के धर्माचार्यों से बातचीत करना आवश्यक होता है. सबको साथ लेकर भी धीरे धीरे बदलाव किया जा सकता है. राम मंदिर पर संघ प्रमुख ने कहा कि कुछ लोग राजनीति की वजह से जानबूझकर मंदिर मामले को आगे खींचते जा रहे हैं. राम मंदिर हिन्दू-मुसलमान का मसला नहीं है. यह भारत का प्रतीक है और जिस भी रास्ते से मंदिर निर्माण संभव है, मंदिर का निर्माण होना चाहिए.

आगे भागवत ने कहा कि रामजन्मभूमि पर जल्द से जल्द राम मंदिर बनना चाहिए. सरकार को कानून बनाकर मंदिर निर्माण करना चाहिए. हम कभी किसी राजनीतिक दल के पीछे खड़े नहीं रहे. हमारा एक ही लक्ष्य है कि देश सुचारु रूप से चलना चाहिए. राम मंदिर का बनना गौरव की दृष्टि से आवश्यक है, मंदिर बनने से देश में सद्भावना व एकात्मता का वातावरण बनेगा.

About RITESH KUMAR

Check Also

सुपरस्टार महेश बाबू ने कैंसर से जूझ रही अपनी फैन गर्ल से की मुलाक़ात!

सुपरस्टार महेश बाबू हमेशा अपने प्रशंसकों की मदद करने की हर संभव कोशिश करते है। …