Thursday , September 21 2017
Home / फैशन / Health & Fitness / मीठा सपना देखते समय आखिरी वक्त पर इसलिए खुल जाती है नींद
सपना, मीठा, नींद, अचानक नींद खुल जाना, गंदी बात, नींद में मुस्कराना, lust, rapid Eye Movement, sweet dreames

मीठा सपना देखते समय आखिरी वक्त पर इसलिए खुल जाती है नींद

नई दिल्ली। क्या आपने कभी सोचा है कि आप कोई मीठा सपना देख रहे होते हैं, और जब उस सपने का सबसे बेहतरीन पल करीब आ रहा होता है तभी आपकी आंख क्यों खुल जाती है? आप क्या, अधिकतर लोग इसकी वजह नहीं जानते। पर हम बता रहे हैं, उसी वजह के बारे में, जिसकी वजह से हम अपने सपनों के सबसे बेहतरीन पलों को मिस कर देते हैं…

सपने के सबसे बेहतरीन पलों के पास पहुंचकर नींद टूट जाने के बाद बहुत गुस्सा आता हैं। इसे ल्यूसिट ड्रीम्स कहते हैं। इन पलों में हम होश पाने के बेहद करीब पहुंच जाते हैं और हमारी धड़कने बढ़ जाती है। हम शिद्दत से उन पलों के करीब पहुंचना चाहते हैं, पर बढ़ी धड़कनों की वजह से हमारी आंखे खुल जाती हैं।

ऐसे पलों के करीब पहुंचने में हमेशा सपनों के दौरान हम अपोजिट सेक्स के लोगों को अपने पास पाते हैं। इस तरह की स्थिति 60 फीसदी सपनों में होती है। अरे भाई, हम असल जिंदगी में सबसे खूबसूरत चीज पाने के चक्कर में होश खो बैठते हैं, ऐसे में सपनों का टूट जाना कोई आपकी गलती थोड़े न है, जो आप खुद पर गुस्साते हैं। वैसे, इसके पीछे वैज्ञानिक वजहें भी हैं।

क्योरा वेबसाइट इस्तेमाल करने वाले रॉस केल्विन ने कुछ बिंदु इस बाबत खोज निकाले हैं। उन्होंने बताया कि हमारे दिमाग में सपनों के दौरान आरईएम और एनआरईएम नाम के मूवमेंट्स होते हैं। किसी सपने के पूरा होने के करीब पहुंचने के समय हमारा आरईएम(रैपिड आई मूवमेंट) सक्रिय हो जाता है। यही वजह है कि हमारी आंख खुल जाती है।

एनआरईएम(नॉन- रैपिड आई मूवमेंट) के दौरान हम कम महत्वपूर्ण सपनों को आसानी से देख जाते हैं। एनआरईएम(नॉन- रैपिड आई मूवमेंट) के दौरान दिमाग ज्यादा सक्रिय नहीं रहता, यही वजह है कि हम कम महत्वपूर्ण सपनों को तुरंत भूल जाते हैं, पर आरईएम होने की वजह से ज्यादा महत्वपूर्ण सपनों के अधूरा रहने पर ज्यादा गुस्साते हैं।

तो जनाब, समझ गए न? कि क्यों हमारी नींद सबसे महत्वपूर्ण समय पर टूटती है और सपने के पूरा न होने का पछतावा होता है। ऐसे में अगर आपको किसी ने उठा दिया हो, तो आप उसपर झल्लाते हैं। अरे जनाब, अब किसी और पर झल्लाना छोड़िए, मस्त होकर अगली बार सोइए। हो सकता है कि आप एनआरईएम(नॉन- रैपिड आई मूवमेंट) में कोई ऐसा ही प्यारा सपना जिए, पर उठने के बाद सबकुछ भुला चुके हों।

About Anchal Shukla

Young journalist from New Delhi. कराटे में ब्लैकबेल्ट चैंपियन। भरतनाट्यम, कुचिपुड़ी की प्रशिक्षु नृत्यांगना। लचीली पर बेहद मजबूत। राजनीति से लेकर खेलों(हर तरह के खेल), मनोरंजन(हर इंडस्ट्री की खबरें), व्यापार, अंतर्राष्ट्रीय खबरें(व्यापार, तनाव, युद्ध) के साथ ही साहित्य में भी रूचि। सबकुछ समेटे और समाज की बुराइयों से लड़ने की ताकत रखने वाली मजबूत कलमकार बनने की कोशिश...

Check Also

यहां मकान मालिक खूबसूरत लड़कियों को मुफ्त में देते हैं घर, बदले में करते हैं सेक्स

लंदन: पूरी दुनिया में लड़कियों के मजबूरी का फायदा उठानेवाले की कमी नहीं हैं, है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *