Thursday , June 29 2017
Home / खबरें अभी अभी / धूम्रपान के धुंए से बच्चे के फेफड़ों का सामान्य विकास बाधित होता हैः डाॅक्टर

धूम्रपान के धुंए से बच्चे के फेफड़ों का सामान्य विकास बाधित होता हैः डाॅक्टर

गाज़ियाबाद। भारत में सिगरेट या बीड़ी पीने वाले लोगों की संख्या पिछले एक दशक में बढ़ी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, विश्व में तंबाकू का सेवन सबसे बड़े स्वास्थ्य खतरों में से एक है जिससे हर साल 70 लाख से अधिक लोगों की मौत होती है। हर दिन 18 वर्ष से कम उम्र के 3,000 से अधिक लोग पहली सिगरेट का कश लेते हैं। जब आप धूम्रपान करते हैं, 7,000 से अधिक रसायन आपके पूरे शरीर में और सभी अंगों में फैल जाते हैं। यहां यह ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि धूम्रपान न केवल धूम्रपान करने वाले व्यक्ति को, बल्कि उसके आसपास मौजूद व्यक्ति को भी प्रभावित करता है।
प्रथम स्तर का धूम्रपान वह है जब आप एक सिगरेट से धुंए को खींचते हैं। दूसरे स्तर का धूम्रपान वह है जब आप धूम्रपान करने वाले व्यक्ति द्वारा छोड़े गए धुंए को सांस से अंदर लेते हैं। वहीं तीसरे स्तर का धूम्रपान का संदर्भ धुंए के उन अवशेषों से है जो कपड़ों, दरी और फर्नीचर की सतह पर अवशोषित होता है या फिर कारों के भीतर मौजूद होता है। चूंकि इसमें छोटे महीने कण होते हैं जिनका मोलेक्यूलर वज़न अधिक होता है, यह प्रथम और दूसरे स्तर के धूम्रपान के मुकाबले दमा के लिहाज से अधिक खतरनाक होता है।
यह अवशेष कैंसरकारी तत्वों वाला विषैला मिश्रण तैयार करने के लिए भीतरी प्रदूषक घटकों के साथ प्रतिक्रिया करता है। इसकी वजह से इसके संपर्क में आने वाले दूसरे व्यक्तियों खासकर गर्भवती महिलाओं और बच्चों का स्वास्थ्य प्रभावित होने की संभावना होती है। सिगरेट के धुंए का प्रभाव शरीर के भीतर प्रत्येक अंग को गंभीर स्थिति में ला सकता है।
कोलंबिया एशिया हाॅस्पिटल, गाजियाबाद के डाॅक्टरों का कहना है कि तीसरे चरण के धूम्रपान के विषैले तत्वों के संपर्क में माता पिता के आने से उनके शिशु के फेफड़े के सामान्य विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
डॉ गगन सैनी सलाहकार ऑन्कोलॉजिस्ट कोलंबिया एशिया अस्पताल गाजियाबाद का कहना है, श्धुंए के अवशेष वाली कोई भी चीज़ आप छूते हैं और ऐसी हवा में सांस लेते हैं तो उस धुंए के विषैले पदार्थ आपके खून में प्रवेश कर सकता है। जब ये विषैले तत्व आपके रक्त में प्रवेश करते हैं तो इसका असर गर्भ में पल रहे बच्चे में होता है। इन अवशेषी रसायनों का अजन्मे बच्चे के फेफड़े के विकास पर गंभीर असर पड़ सकता है। यह जीवन में बाद में श्वास संबंधी दिक्कतें पैदा कर सकता है। फेफड़े के विकास बाधा से बच्चे को दमा का रोग हो सकता है या दूसरी श्वास संबंधी बीमारियां हो सकती हैं।
कैंसरजनक तत्वों के संपर्क में आए लोगों में लीवर और फेफड़ों में उल्लेखनीय क्षति देखी गई है। अब कल्पना करें कि एक अजन्मा बच्चा जिसके फेफड़ों, मस्तिष्क और तंत्रिका प्रणाली का विकास हो रहा है, यदि इन विषैले तत्वों से प्रभावित हो तो क्या होगा। धुंआ सांस के जरिये भीतर लेने से गर्भावस्था से जुड़ी जटिलताएं हो सकती हैं जिनमें प्लेसेंटा प्रीविया, समय से पूर्व प्रसव, कम वज़न का शिशु और जन्म के समय गड़बड़ी, अचानक शिशु के मरने का सिंड्रोम-एसआईडीएस, बांझपन आदि शामिल हैं। तीसरे चरण के धुएं को कमरे का दरवाजा, खिड़कियां खोलकर, पंखा या एसी चलाकर या धूम्रपान को घर के एक दायरे में सीमित करके खत्म नहीं किया जा सकता।
कई लोग धूम्रपान के लिए घर से बाहर निकलकर अपने अजन्मे बच्चे की रक्षा करने का प्रयास करते हैं, लेकिन यह अजन्मे बच्चे की रक्षा करने के लिए कारगर नहीं है क्योंकि तीसरे चरण का धुंआ आपके कपड़े में अवशोषित होगा और वह आपके साथ घर के भीतर जाएगा।
डॉ गगन सैनी सलाहकार ऑन्कोलॉजिस्ट कोलंबिया एशिया अस्पताल गाजियाबाद का कहना है, श्गर्भवती महिलाओं को इन विषैले तत्वों के संभावित नुकसान से अपने अजन्मे बच्चे की रक्षा करने के लिए उन जगहों पर जाने से बचना चाहिए जहां तीसरे चरण का धुंआ मौजूद हो, भले ही वजह जगह उनका घर हो। सबसे अच्छी रोकथाम सभी तरह के धूम्रपान पर रोक लगाना और ऐसी जगहों पर जाने से बचना है जहां तीसरे चरण का धुंआ मौजूद हो सकता है। यह सुनिश्चित करें कि आपका साथी बाहर धूम्रपान करे और वही कपड़ा पहने हुए घर में प्रवेश न करे जिस कपड़े को पहने हुए उसने धूम्रपान किया है। उदाहरण के तौर पर, अपने जीवन साथी को इस बात के लिए प्रेरित करें कि वह धूम्रपान करते समय कोट या स्वेट शर्ट पहने और घर में आने से पहले उन्हें उतार दे। इसके अलावा, सिगरेट के संपर्क में आने के बाद आपके और आपके साथी के लिए यह महत्वपूर्ण है कि बच्चे को स्पर्श करने से पहले वह अपना हाथ अच्छी तरह से साफ करे।श्
कोलंबिया एशिया हाॅस्पिटल के डाॅक्टरों का मानना है कि धूम्रपान नहीं करने वालों खासकर गर्भवती महिलाओं का तीसरे चरण के धुंए से बचाव करने का एकमात्र उपाय घर, कारों और सार्वजनिक स्थानों जैसे रेस्तरां एवं होटलों में धूम्रपान मुक्त वातावरण का निर्माण करना है।

About खबर ऑन डिमांड ब्यूरो

Check Also

मैगजीन कवर के लिए प्रेग्नेंट टेनिस स्‍टार सेरेना विलियम्स ने कराया न्यूड फोटोशूट

नई दिल्‍ली: दुनिया की नबंर वन टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स ने प्रेग्नेंसी के दौरान न्यूड …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *