Sunday , February 24 2019
Home / देश / UP Assembly Elections 2017: गाजियाबाद में युवा मोर्चे से मिल रही सपा को मजबूती

UP Assembly Elections 2017: गाजियाबाद में युवा मोर्चे से मिल रही सपा को मजबूती

गाजियाबाद से शैलेश कुमार शुक्ला उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव का खुमार समूचे देश पर छाया हुआ है। हर किसी की जुबां पर उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव ही हैं। पार्टी से जुड़े लोगों की नींदे उड़ी हुई हैं, तो संभावित जीत के लिए तमाम हठकंडे अभी से अपनाने शुरू कर दिए गए हैं। पर पार्टी का संगठन अगर मजबूत है, तो चुनाव बिना शोर शराबे के भी लड़ा जा सकता है। गाजियाबाद में ऐसा ही कुछ कर रही सत्तारुढ़ समाजवादी पार्टी। यहां मुख्य पार्टी के साथ ही युवा मोर्चे की सक्रियता से पार्टी को मजबूती मिल रही है। www.khabarondemand.com ने चुनावी माहौल को जानने के लिए गाजियाबाद महानगर समाजवादी युवा मोर्चे के अध्यक्ष हाजी जावेद कुरैशी से मुलाकात की और चुनावी माहौल को जानने की कोशिश की।

Khabar On Demand : अभी चुनाव का माहौल है तो विधानसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी की क्या तैयारियां चल रही है?

हाजी जावेद कुरैशी: चुनाव को लेकर तैयारियां पूरी जोरों पर हैं, माननीय मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेतृत्व में पूरा कुनबा प्रदेश को बदलने की कोशिश कर रहा हैं। पार्टी के कार्यकर्ता जोश के साथ सरकार की उपलब्धियों को लोगों तक पहुंचा रहे हैं। ये तय है कि प्रदेश में हम फिर से सरकार बना रहे हैं।

Khabar On Demand : समाजवादी पार्टी की वर्तमान सरकार ने युवाओं के लिए क्या खास काम किए हैं? आगे इस सरकार की किन योजनाओं को लेकर आप वोट मांग रहे हैं?

हाजी जावेद कुरैशी: जनाब, हम अगला चुनाव तो जीत ही रहे हैं। और फिर माननीय मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कह ही चुके हैं, कि इस बार हम पूरा प्रदेश बदल कर रख देंगे। हमारे विकास कार्य इस बात की गवाही देते हैं। सरकार ने रिकॉर्ड कम समय में ऐसे प्रोजेक्ट्स बिना किसी शोर-शराबे और घोटालों के पूरे कर दिए हैं, जिसके बारे में लोग पहले कल्पना तक नहीं कर सकते थे। हम ऐसा प्रदेश बना रहे हैं, जो सबसे आगे हो। हर मायने में।1

Khabar On Demand : अब गाजियाबाद विधानसभा की बात करें, तो यहां मेट्रो आ चुकी है। हालांकि गाजियाबाद बेहद घनी आबादी वाला शहर है। पर मेट्रो के अलावा सरकार ने गाजियाबाद के लिए क्या क्या काम किए हैं?

हाजी जावेद कुरैशी: माननीय मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कारण ही मेट्रो के साथ हज हाउस भी आया है। खासकर मुसलमानों के लिए भी ये सरकार सोच रही है। ये सरकार सभी का विकास कर रही है, पर हम जैसे मुस्लिम युवा जो इस विकास कार्य में पीछे रह जाते थे। सरकार हम जैसे युवाओं पर भी ध्यान दे रही है। मैं कम से कम इतना तो कह ही सकता हूं कि बाकी लोग मुस्लिमों का सिर्फ वोट मांगते हैं, पर अखिलेश जी की सरकार से सभी के विकास के साथ ही मुस्लिमों का भी ख्याल रखा है कि कहीं हम विकास की इस दौड़ में पीछे न रह जाएं। उम्मीद है कि इन चुनावों में हमारे भाई-बंधु इस सबसे सफल युवा मुख्यमंत्री का साथ देंगे।

Khabar On Demand : फाइटर प्लेन चलने वाली रोड और रिकॉर्ड समय में कई सारी योजनाओं को पूरा किया इसकों लेकर कितना फ़र्क पड़ेगा प्रदेश की राजनीति में?

हाजी जावेद कुरैशी: युवा हमारे मुख्यमंत्री के साथ हैं। विकास कार्यों का हमने ढिंढोरा नहीं पीटा। हमनें काम शुरु किए और करके दिखाए हैं। अब युवाओं को रोजगार देने के लिए तमाम इंडस्ट्रियल इनवेस्टमेंट लाया जा रहा है। इससे सभी को रोजगार मिलेगा।

Khabar On Demand : गाजियाबाद महानगर विधानसभा सीट से सागर शर्मा को टिकट मिला है। उनके बारे में कुछ बताएं।

हाजी जावेद कुरैशी: सागर शर्मा जी संगठन में काफी समय से सक्रिय रहे हैं। इन्होंने आम लोगों के लिए किसी सरकारी पद पर न रहने के बावजूद तमाम काम करवाए। यहां लोग सागर जी को पसंद कर रहे हैं। किसी से भी पूछेंगे तो सागर जी का नाम सबकी जुबां पर है।

Khabar On Demand : अभी चुनाव की तैयारी कैसी चल रही है। इस बार चुनाव को लेकर क्या रणनीति बनाई गई है?

हाजी जावेद कुरैशी: हम हर घर जाकर सबकी समस्या सुन रहे है और उनकी समस्याओं का समाधान भी किया जा रहा है। जो समस्याएं तुरंत नहीं सुलझाई जा सकने वाली हैं, हम उन्हें नोट कर रहे हैं। ताकि धीरे-धीरे ही सही। सभी समस्याओं का निदान तो हो। हम आम लोगों के हित में काम कर रहे हैं। इसी आधार पर वोट मांग रहे हैं। हम डोर-टू-डोर कैंपेनिंग भी कर रहे हैं।

Khabar On Demand : क्या लगता है इस विधानसभा में समाजवादी पार्टी की कितनी सीट आ रही है?

हाजी जावेद कुरैशी: इस विधासभा में हमे पूरा बहुमत मिल रही है। आज तक कभी किसी मुख्यमंत्री ने इतना काम नहीं किया है। यही वजह है कि जनता हमें फिर से सत्ता दे रही है।

 

About RITESH KUMAR

Check Also

आदिवासियों की समस्या को उजागर करती टी-सीरीज की शार्ट फिल्म ” जीना मुश्किल है यार” विश्व फ़िल्मफेस्टिवल में  

   आदिवासियों की समस्या को उजागर करती शार्ट फिल्म ‘ जीना मुश्किल है यार’ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *