Monday , March 25 2019
Home / राज्य / गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव : क्या सपा-बसपा का खेल बिगाड़ देगी BJP?

गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव : क्या सपा-बसपा का खेल बिगाड़ देगी BJP?

गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनावों को लेकर उत्तर प्रदेश में सरगर्मियां तेज हो गई हैं। बसपा के साथ तालमेल को लेकर सपा खासी आशान्वित दिख रही है तो भाजपा इन सीटों पर फिर कमल खिलाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोडना चाहती है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनाव प्रचार की कमान संभाल रखी है। उनके साथ केन्द्रीय मंत्रियों, नेताओं और राज्य मंत्रिपरिषद के सदस्यों की टीम प्रचार में जुटी है। सपा की दलील है कि जनता मोदी और योगी सरकार की नीतियों से परेशान है। कांग्रेस भी मानती है कि विकास को लेकर सरकार से जनता की उम्मीदें टूटी हैं।

गोरखपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के जातीय समीकरण पर नजर डालें तो यहां करीब साढ़े तीन लाख मुस्लिम, साढ़े चार लाख निषाद, दो लाख दलित, दो लाख यादव और डेढ़ लाख पासवान मतदाता हैं, लेकिन बड़ा सवाल यह है कि सपा-बसपा का तालमेल मतदाताओं को लुभाने में कितना कामयाब हो पाता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रभाव को हालांकि नकारा नहीं जा सकता। इसमें संदेह नहीं कि कई मतदाताओं की गोरखनाथ मठ के महंत में आस्था है। 1998 से लगातार गोरखपुर के सांसद रहे योगी चुनाव प्रचार के दौरान कई बार कह चुके हैं कि भाजपा उम्मीदवार उपेन्द्र शुक्ल उन्हीं के प्रतिनिधि हैं।

कांग्रेस ने सुरहिता करीम को उम्मीदवार बनाया है। बताया जाता है कि समाज के हर वर्ग में उनकी अच्छी छवि है। सपा के प्रत्याशी प्रवीण निषाद हैं। उनकी मां और भाई भी मुकाबले में हैं।

About RITESH KUMAR

Check Also

भाजपा ने मध्य प्रदेश में पांच मौजूदा सांसदों का काटा टिकट

भोपाल : भाजपा ने मध्य प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में से 15 सीटों पर …