Sunday , December 16 2018
Home / खेल / आस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की साख दांव पर

आस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की साख दांव पर

भारत और आस्ट्रेलिया के बीच खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज दोनों ही टीमों के लिए प्रतिष्ठा की लड़ाई बन चुकी है। एक और विश्व विजेता भारतीय टीम इस हर हाल में इस सीरीज को जीतकर अपनी बादशाहत कायम रखना चाहेगी तो दूसरी ओर मेजबान टीम भी अपने घर में बिल्कुल भी हारना नहीं चाहेगी।

आस्ट्रलिया के पास भी इस सीरीज में विश्व चैंपियन का खिताब अपने सर पे सजाने का बेहतरीन मौका है। इसके अलावा भारतीय टीम की बात करें तो अगर एक मैच ड्रा भी करा लेती है तो अपनी शीर्ष रैंकिंग बचाने में सफल रहेगी। आस्ट्रेलिया फिलहाल आईसीसी रैंकिंग में पांचवें स्थान पर चल रहा है। आईसीसी ने बयान में कहा,  आस्ट्रेलिया अगर 4-0 से जीत दर्ज करता है तो टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक बन जाएगा।

 

भारत को शीर्ष स्थान बरकरार रखने के लिए सिर्फ एक टेस्ट ड्रा कराने की जरूरत है। शीर्ष 20 बल्लेबाजों की सूची में कोई बदलाव नहीं हुआ है जिसमें भारतीय कप्तान विराट कोहली शीर्ष पर चल रहे हैं। आस्ट्रेलिया के प्रतिबंधित बल्लेबाज स्टीव स्मिथ और न्यूजीलैंड के केन विलियमसन क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं। गेंदबाजों की सूची में रविंद्र जडेजा पांचवें स्थान के साथ शीर्ष भारतीय गेंदबाज हैं। रविचंद्रन अश्विन सातवें स्थान पर बरकरार हैं।

चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला की शुरुआत गुरुवार को एडिलेड में होगी। भारत के फिलहाल 116 जबकि आस्ट्रेलिया के 102 अंक हैं। आईसीसी ने कहा, 14 अंकों के अंतर का मतलब है कि भारत के आसानी से श्रृंखला जीतने की उम्मीद की जाती है और अपनी विफलता पर एशियाई टीम को अंक गंवाने होंगे।

 

भारत अगर 4-0 से जीत दर्ज करता है तो उसके 120 अंक हो जाएंगे जबकि आस्ट्रेलिया के 97 अंक ही रह जाएंगे। हालांकि अगर आस्ट्रेलिया 4-0 से जीत दर्ज करता है तो 110 अंक के साथ शीर्ष पर पहुंच जाएगा जबकि भारत 18 अंक (इंग्लैंड से 0.065 अंक पीछे) के साथ तीसरे स्थान पर खिसक जाएगा। आस्ट्रेलिया अगर 3-0 से जीत दर्ज करता है तो कोहली की टीम के 109 अंक जबकि मेजबान टीम के 108 अंक होंगे। आस्ट्रेलिया की 3-1 से जीत पर मेजबान टीम के 107 जबकि भारत के 111 अंक होंगे।

About Web Team

Check Also

SC जांच एजेंसी नहीं, सिर्फ जेपीसी कर सकती है राफेल डील की जांच: मल्लिकार्जुन खड़गे

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और संसद की लोक लेखा समिति (पीएसी) के प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *