Wednesday , December 19 2018
Home / देश / अनीता कुंडू इंडोनेशिया की चोटी पर फहराया तिरंगा, दिल्ली के हजारों युवाओं ने काफी गर्मजोशी के साथ स्वागत किया

अनीता कुंडू इंडोनेशिया की चोटी पर फहराया तिरंगा, दिल्ली के हजारों युवाओं ने काफी गर्मजोशी के साथ स्वागत किया

इंडोनेशिया के पश्चिम पापुआन प्रांत में स्थित  4884मीटर (16,024 फीट) ऊंचाई वाली  सुदिर्मन पर्वत श्रृंखला के दुर्गम कारस्टेंस पिरामिड शिखर पर भारतीय ध्वज फहराने के बाद विश्व प्रसिद्ध पर्वतारोही अनीता कुंडू शनिवार (24 मार्च) को दिल्ली लौट आईं। इंडोनेशिया के पश्चिम पापुआन प्रांत में स्थित  4884मीटर (16,024 फीट) ऊंचाई वाली  ।

कारस्टेंस पिरामिड शिखर के अपने खतरनाक अभियान के बारे में बताते हुए अनिता ने कहा कि इस बार का पर्वतारोहण अभिनयान काफी जोखिम भरा था। तकनीकी दृष्टि से पर्वतारोहण के लिए यह चोटी काफी दुर्गम है। ऊंचाई पर ऑक्सीजन का स्तर कम होने पर जान का खतरा भी बना रहता है। इंडोनेशिया में तेल और सोने की खान है और वहां ज्वालामुखी के फटने का भी खतरा रहता है। इसके अलावा इस क्षेत्र में लगातार बारिश होती रहती है जिसके कारण चढ़ाई काफी मुश्किल और तकनीकी थी, क्योंकि बारिश के कारण पत्थर फिसलन भरे हो गए थे।

उन्होंने बताया कि वहां मच्छरों और मक्खियों की भरमार थी, जिसके कारण 6 साथियों को मलेरिया भी हो गया। वहां इतनी ठंड थी जितनी एवरेस्ट पर भी नहीं थी। उन्होंने बताया कि इस अभियान के तहत कुछ पर्वत ऐसे थे, जिनसे पत्थर टूटकर लगातार गिरते हैं। इनकी चपेट में आने से पर्वातारोही के बचने की कोई संभावना नहीं होती। ऐसा ही पत्थर का एक छोटा टुकड़ा उनकी ऊंगली पर भी लगा, लेकिन भगवान की दया से ज्यादा चोट नहीं लगी।

उन्होंने बताया कि इस अभियान को उन्होंने काफी हल्के में लिया था, लेकिन वहां एक-एक कदम की चढ़ाई काफी खतरनाक थी। इस चढ़ाई के लिए उनके पास उपकरण भी नहीं थे,एक जगह तो ऐसी थी कि दो पर्वतों के बीच रस्सियां थी और नीचे हजारों फुट की गहराई थी, उसे पार करने के लिए आवश्यक उपकरण मेरे पास नहीं थे, उसपर हवा भी काफी तेज थी लेकिन इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और सफलता पूर्वक अपने अभियान को पूरा किया। यह सफर कितना खतरनाक था, इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि इस अभियान में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी सहित10 देशों के पर्वतारोहियों में से केवल तीन ही सफलतापूर्वक चढ़ाई पूरा कर सके।

अपने अगले अभियान के बारे में उन्होंने बताया कि अपने सेवन समिट अभियान को आरंभ रखते हुए वे ऑस्ट्रेलिया में ऊंची चोटी को फतह करने के लिए अप्रैल माह में अपना अभियान आरंभ कर देंगी।

इस अवसर पर सेक्युरिटी एंड इंटेलिजेंस सर्विसेज (एसआईएस) के अध्यक्ष श्री आर. के. सिन्हा ने कहा कि हरियाणा जैसे राज्य में जहां कन्याओं को भ्रूण में ही मार दिया जाता है, उस राज्य से नाता रखने वाली अनिता आज देश को गौरवान्वित कर रही हैं, यह अपने आप में ही एक बड़ी चीज है। मैं उनको उनकी उपलब्धि पर शुभकामनाएं देता हूं और आगे भी पर्वातरोहण के उनके विश्व अभियान को समर्थन देता रहूंगा।

उल्लेखनीय है कि अनिता कुंडू के विश्व पर्वतारोहण अभियान को सेक्युरिटी एंड इंटेलिजेंस सर्विसेज (एसआईएस) प्रायोजित कर रहा है। एसआईएस के संस्थापक व राज्यसभा सदस्य आरके  सिन्हा  ने घोषित किया है कि वे अनीता कुंडू के न केवल इस अभियान का बल्कि भविष्य के सभी पर्वतारोहण अभियानों को प्रायोजित करेंगे।  इस अभियान पर निकलने से पहले 09 मार्च को एसआईएस के संस्थापक एवं अध्यक्ष तथा भाजपा सांसद श्री आर के सिन्हा ने अनिता को 11 लाख 31 हजार रुपए का चेक भी प्रदान किया था। अनीता न केवल एसआईएस बल्कि हिन्दुस्थान समाचार समूह,आईआईएसएसएम और देहरादून पब्लिक स्कूल की भी ब्रांड एम्बेसडर हैं।

अनीता अपने नए और जोखिम भरे अभियान के लिए 13 मार्च को देश से रवाना हुई थी। 14 मार्च को उन्होंने चढ़ाई शुरू की। जब वह चोटी के नजदीक पहुंचने वाली थी तो तेज बारिश और खराब मौसम के कारण 18 मार्च को उन्हें वापस बेस कैंप आना पड़ा था। दोबारा फिर मिशन शुरू किया और 21मार्च को चोटी पर जाकर तिरंगा फहराया।

अपने अभियान पर निकलने से पहले अनीता ने बताया था कि अपने सेवन समिट मिशन के तहत विश्व की सात सबसे ऊंची चोटियों पर तिरंगा फहराने का  उनका लक्ष्य है। इसके पहले एवरेस्ट और अब इंडोनेशिया की चोटी फतह कर चुकीं अनीता अब पांच महाद्वीपों की चोटियों को फतह करने निकलेंगी। इनमें दक्षिण अमेरिका की एंडीज पर्वत श्रृंखला की अर्जेटीना स्थित एकोनकागुआ की ऊंचाई 6961 मीटर, नॉर्थ अमेरिका की एलास्का रेंज की यूनाइटेड स्टेट स्थित मैककिनले की ऊंचाई6194 मीटर, अफ्रीका की तंजानिया स्थित किलीमंजारो की ऊंचाई 5895 मीटर, यूरोप के कॉकेसस पर्वत श्रृंखला की रसिया स्थित माउंट एलब्रस की ऊंचाई 5642 मीटर, अंटार्कटिका की सेंटिनल पर्वत श्रृंखला की माउंट विंसन की ऊंचाई4892 मीटर है।

अनीता कुंडू के इन पर्वतारोहण अभियान को प्रायोजित करने वाले सांसद व समाजसेवी आरके सिन्हा अनीता कुंडू को पुत्री समान मानते हैं। वे कहते हैं कि बेटियों के हौसले को बढ़ाने के लिए वे अनीता के सभी पर्वतारोहण अभियानों का पूरा खर्च उठाने को सहर्ष तैयार हुए।

About Web Team

Check Also

जीरो” में दिखेगी शाहरुख खान और जीशान अयूब की दिल छू लेने वाली दोस्ती

आनंद एल राय के निर्देशन में बनी फिल्म ‘जीरो’ में शाहरुख खान और जीशान अयूब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *