Wednesday , October 17 2018
Home / देश / EC पर कांग्रेस के बाद यशवंत सिन्हा ने भी बोला हमला!
Yashwant Sinha

EC पर कांग्रेस के बाद यशवंत सिन्हा ने भी बोला हमला!

नई दिल्ली: चुनाव आयोग के विधानसभा चुनाव की घोषणा का समय बदलने का विवाद अब तूल पकड़ रहा है। कांग्रेस के बाद अब भारतीय जनता पार्टी के बागी नेता और पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने भी निर्वाचन आयोग पर अपनी भड़ास निकाली है। सिन्हा ने कहा है कि प्रधानमंत्री अजमेर में रैली कर सकें इसके लिए EC ने अपनी प्रेसवार्ता का समय बदल दिया। जो काफी निराशाजनक है। आपको बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने आयोग के समय बदलने को लेकर सवाल पूछा था कि किसके इशारे पर आयोग ने प्रेसवार्ता के समय में बदलाव किया। कांग्रेस के चुनाव घोषणा के प्रेसवार्ता के समय बदलने वाले सवाल पर निर्वाचन आयोग का जवाब आया है। दरअसल कांग्रेस ने चुनाव आयोग पर बड़ा आरोप लगाते हुए सवाल उठाया किसके इशारे पर निर्वाचन आयोग ने विधानसभा चुनावों के प्रेसवार्ता का समय बदला। चुनाव आयोग की ओर से आगामी विधानसभा चुनावों की तारीखों को लेकर दोपहर 12.30 बजे प्रेसवार्ता का समय दिया था। लेकिन आधे घंटे बाद ही इस समय में बदलाव कर दिया गया और प्रेसवार्ता को दोपहर 3 बजे के लिए स्थगित कर दिया गया। कांग्रेस ने आरोप लगाया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अजमेर में होने वाली रैली के कारण निर्वाचन आयोग ये कदम उठाया।

इसपर आयोग ने प्रेसवार्ता के समय बदलने का कारण मीडिया को ही बता डाला। आयोग ने कहा है कि 12.30 बजे का जो समय दिया था वो बहुत कम समय पर दिया गया था, ऐसे में समय बढ़ाकर 3 बजे कर दिया गया ताकि सभी मीडिया पर्सन आसानी से पीसी के वक्त पहुंच सकें, यानी EC को मीडियाकर्मियों के समय पर न पहुंचने की चिंता इस कदर सताने लगी कि उन्होंने अपने वक्त की परवाह न करते हुए महत्वपूर्ण घोषणा के समय में ही बदलाव कर दिया। इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सवाल उठाया कि जब चुनाव आयोग 12.30 बजे का समय दे चुका था तो फिर अचानक समय में बदलाव क्यों किया गया। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र 1 बजे अजमेर में रैली के दौरान भाजपा की ओर से कई घोषणाएं कर सकते हैं, ऐसे में निर्वाचन आयोग ने अपनी प्रेसवार्ता के समय में बड़ा बदलाव किया है।

इससे पहले भी चुनाव के एलान को लेकर निर्वाचन आयोग विवादों में रहा है। पिछली बार संभावना थी कि चुनाव आयोग गुजरात और हिमाचल के चुनाव का ऐलान एक साथ करेगा लेकिन उस वक्त सिर्फ हिमाचल की तारीखों का ही ऐलान किया गया था। इसके बाद चुनावी रैलियों में PM मोदी ने कई घोषणाएं की थीं। इनमें सी प्लेन जैसी लॉन्चिंग समेत कई कार्यक्रमों शामिल थे। तब भी आयोग पर आरोप लगे थे कि उसने पीएम के चुनावी घोषणाओं के चलते ऐसा किया है।हालांकि चुनाव आयोग ने इसके पीछे ये तर्क दिया था कि ऐसा जरूरी नहीं है कि आयोग एक साथ दोनों राज्यों की तारीखों का ऐलान करे। एक राज्य में पहले और दूसरे का बाद में ऐलान किया जा सकता है।

About KOD MEDIA

Check Also

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के विधायक बेटे मानवेंद्र बुधवार को कांग्रेस में शामिल होंगे

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के विधायक बेटे मानवेंद्र बुधवार को कांग्रेस में शामिल होंगे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *